इंदौरः भीषण अग्निकांड में सात लोगों की मौत, मामले की जांच शुरू (अपडेट)

इंदौर, 07 मई शहर के विजय नगर थाना क्षेत्र स्थित स्वर्णबाग कॉलोनी में शुक्रवार-शनिवार की
दरमियानी रात करीब तीन बजे हुए भीषण अग्निकांड में दंपति सहित सात लोगों की मौत हो गई। रहवासी बिल्डिंग

में लगी आग के बाद कुछ लोगों ने जहां कूदकर अपनी जान बचाई वहीं कुछ को रहवासियों और फायर ब्रिगेड की
टीम ने रेस्क्यू कर बचाया।

पार्किंग में लगी आग ने तल मंजिल को अपनी चपेट में लिया, इसके बाद आग दूसरी
मंजिल तक भी पहुंच गई

और तीसरी मंजिल पर भी धुआं भर गया था। हादसे में पांच लोग घायल हुए हैं। घटना

की जानकारी मिलते ही कलेक्टर मनीष सिंह ने तुरंत संबंधित विभाग के अफसरों को मौके पर भेजा, जो आग
लगने के कारणों की जांच कर रहे हैं। कलेक्टर एमवाय अस्पताल में घायलों से मिलने भी पहुंचे।

विजय नगर स्थित स्वर्णबाग कॉलोनी में पार्किंग में लगी आग तीन मंजिला मकान की निचली मंजिल तक पहुंच
गई और आग ने कुछ ही देर में विकराल रूप धारण कर लिया। सूचना मिलने पर दमकल की गाड़ियां भी मौके पर

पहुंची लेकिन गाड़ियां इतनी देर में आग ने विकराल रूप धारण कर लिया और बिल्डिंग आग का गोला बन गई थी,
इस आग में जलने के कारण एक महिला और 6 पुरुषों की मौत हो गई।

हादसे में मृतकों के नाम ईश्वरसिंह (45) पुत्र लालसिंह सिसौदिया, उनकी पत्नी नीतूसिंह (45), आशीष (30) निवासी
झांसी, आकांक्षा (25) निवासी देवास और गौरव (39) है, जबकि अन्य मृतकों की शिनाख्त नहीं हो सकी है। इसके

अलावा हादसे में विनोद (30) पुत्र गोपी सोलंकी, मुनिरा (25) पुत्र अब्दुल मलिक, तुषार प्रजापति (30) पुत्र कमल,
अरशद (22) पुत्र रईस खान, सोनाली पंवार (21) पुत्र मनीष घायल हो गए हैं। घायलों का एमवाय अस्पताल में
इलाज चल रहा है।

पहले वाहनों में लगी आगः घटनाक्रम रात तीन बजे के लगभग हुआ, जब इमारत की पार्किंग में खड़ी कार में आग
लग गई। इस आग के चलते पार्किंग में खड़े अन्य वाहनों ने आग पकड़ ली, जिसका धुआं ऊपर कमरों में पहुंचना
शुरू हो गया।

खिड़िकियों को तोड़कर बाहर निकालाः जब लोगों के फ्लैट्स में धुआं पहुंचा तो रहवासियों की नींद खुली। हड़बड़ी में
कुछ लोग नीचे भागे और लपटों में घिर गए। उन्हें बचने का मौका ही नहीं मिल पाया और वह सीढ़ियों पर फंसे

रह गए। हड़कंप मचते ही रहवासी और आस-पड़ोस के लोग जागे और आग बुझाने व फंसे लोगों को बचाने का
सिलसिला शुरू हुआ। इस दौरान कुछ लोग जान बचाने के लिए छत पर भागे लेकिन छत तक पहुंच नहीं सके।
आसपास के लोगों ने घरों की खिड़कियों को तोड़कर कई लोगों को बाहर निकाला।

शार्ट-सर्किट की आशंकाः प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार रात में ढाई से तीन बजे के आसपास इलाके में पावर कट हुआ
था। कुछ देर बाद जब बिजली आई तो वोल्टेज ज्यादा था।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार इसके चलते मीटर में शॉर्ट
सर्किट हुआ और नीचे खड़ी गाड़ियों में आग लग गई।

देखते ही देखते आग ने कई गाड़ियों को अपनी चपेट में ले
लिया।

12 दो पहिया और कार खाकः पार्किग में 12 दोपहिया वाहन खड़े थे। इसके साथ ही मकान मालिक की एक कार
भी वहां रखी थी। वाहनों में भरे ईंधन की वजह से आग तेजी से फैल गई।

फायर एसपी आरएस निगवाल ने बताया
कि आग के चलते गाड़ियों में विस्फोट हुआ, जिससे वाहनों में भरा ईंधन फैल गया।

इसकी वजह से आग बेकाबू
होती चली गई।

सिटी बस डिपो में करता था कामः इस हादसे में मारे गए गौरव के बारे में पता चला है कि वह यहां किराये का
मकान लेकर रहता था।

उसके बारे में पता चला है कि वह सिटी बस डिपो में काम करता था। उसके परिवार के
बारे में पुलिस जानकारी निकाल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *