एशियाई खेलों के दोहरे स्वर्ण पदक विजेता पूर्व धावक हरि चंद का निधन

होशियारपुर, 13 जून । एशियाई खेलों के दोहरे स्वर्ण पदक विजेता और ओलंपियन हरि चंद का सोमवार सुबह 69 वर्ष की आयु में निधन हो गया। 01 अप्रैल, 1953 को जन्मे, लंबी दूरी के पूर्व धावक हरि चंद पंजाब के होशियारपुर के घोरेवा गांव के रहने वाले थे।

हरि चंद उन महान खिलाड़ियों में से एक थे जिन्हें भारत ने डिस्टेंस रनिंग में बनाया है। उन्होंने दो ओलंपिक खेलों में भाग लिया। मॉन्ट्रियल में 1976 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में, वह 28: 48.72 के समय के साथ 10,000 मीटर में आठवें स्थान पर आए, जो एक राष्ट्रीय रिकॉर्ड था और 32 वर्षों तक बना रहा।

इसके बाद उन्होंने 1980 के ओलंपिक पुरुष मैराथन में भाग लिया जहां उन्होंने लेनिन स्टेडियम, मॉस्को में 2:22:08 के समय के साथ दौड़ पूरी की। भारतीय एथलेटिक्स के गुमनाम नायक हरि चंद ने 1978 के बैंकाक एशियाई खेलों में भी दो स्वर्ण पदक जीते। थाईलैंड में, हरि 5000 मीटर और 10,000 मीटर दोनों स्पर्धाओं में पोडियम के शीर्ष पायदान पर थे। भारत में खेलों में उनके योगदान के लिए, हरि चंद को अर्जुन पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।