कॉमनवेल्थ गेम्स में अचिंता शेउली ने भारत को दिलाया 3rd गोल्ड मेडल, बनाया नया रिकॉर्ड

कॉमनवेल्थ गेम्स में बनाया नया रिकॉर्ड

बर्मिंघम में जारी कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में भारतीय वेटलिफ्टर खिलाड़ियों का जलवा जारी है। भारत ने इन खेलों में अब तक 3 स्वर्ण पदकों के साथ कुल 6 पदक जीते हैं और सभी मेडल वेटलिफ्टिंग इवेंट में ही आए हैं। CWG 2022 में तीसरे दिन दूरा मेडल भारत को अचिंता शेउली ने दिलाया। उन्होंने बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों में भारत को दिन का दूसरा और इवेंट का तीसरा स्वर्ण पदक दिलाने में कामयाबी हासिल की।

कॉमनवेल्थ गेम्स

कॉमनवेल्थ गेम्स

20 साल के अचिंता शेउली ने पुरुषों के 73 किलोग्राम भारवर्ग में हिस्सा लिया था, जहां उन्होंने स्नैच राउंड में 143 किलो और क्लीन एंड जर्क राउंड में 170 किलो वजन उठाया। इस तरह उन्होंने कुल 313 किलो वजन उठाकर भारत की झोली में गोल्ड मेडल डालने का काम किया। यह भारत के लिए तीसरे दिन (रविवार) का दूसरा पदक था, क्योंकि उनसे पहले वेटलिफ्टर जेरेमी लालरिनुंगा ने 67 kg भारवर्ग में गोल्ड मेडल अपने नाम किया था।

Read This :- यामाहा ने लॉन्च किया नया रेट्रो लुक स्कूटर दिया मोबाइल स्क्रीन जैसा स्पीडोमीटर, जानिए कीमत

कॉमनवेल्थ गेम्स में  भारत छठे स्थान पर

कामनवेल्थ गेम्स 2022 की पदक तालिका में अब भारत छठे स्थान पर पहुंच गया है। भारत से आगे ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और कनाडा है। वहीं, अब तक भारत के लिए पदक जीतने वालों की बात करें तो अचिंता शेउली और जेरेमी लालरिनुंगा से पहले शनिवार को भारत ने चार पदक वेटलिफ्टिंग में ही जीते थे। मीराबाई चानू ने गोल्ड मेडल, जबकि संकेत सरदर और विंद्यारानी देवी ने सिल्वर और गुरुराजा पुजारी ने कांस्य जीता था।

कामनवेल्थ गेम्स

कॉमनवेल्थ गेम्स

आपको बता दें, अचिंता शेउली ने स्नैच राउंड टॉप पर रहते हुए खत्म किया। उन्होंने पहले प्रयास में 137 किलो, दूसरे प्रयास में 140 किलो और तीसरे प्रयास में 143 किलोग्राम का वजन उठाया। स्नैच राउंड में दूसरे स्थान पर मलेशिया के हिदायत मोहम्मद रहे, जिन्होंने 138kg वजन उठाया था। अचिंता ने स्नैच राउंड में दो बार कॉमनवेल्थ रिकॉर्ड भी बना दिया, क्योंकि स्नैच राउंड में किसी ने भी 140 किलो भी वजन नहीं उठाया था।

कामनवेल्थ गेम्स

कॉमनवेल्थ गेम्स

स्नैच राउंड खत्म होने के बाद क्लीन एंड जर्क राउंड में अचिंता शेउली ने पहले ही अटेम्प्ट में 166kg वजन उठाकर लगभग पदक पक्का कर लिया था, जो कि कॉमनवेल्थ गेम्स का रिकॉर्ड भी है। इसके बाद दूसरे प्रयास में उन्होंने 170kg वजन उठाया। तीसरे प्रयास में भी उन्होंने इतना ही वजन उठाया और कुल 313 किलो वजन उठाकर गोल्ड मेडल पर कब्जा किया। अचिंत को मलेशिया के हिदायत मोहम्मद से कड़ी टक्कर मिली।

Jobs:- SSC Junior Hindi Translator, Junior Translator and Senior Hindi Translator 2022 Online Form