चढूनी ने कहा,राकेश टिकैत ने किसानों को किया गुमराह

SKM ने किसानों को गुमराह किया : चढूनी

चढूनी

चढूनी का कहना है कि UP के लखीमपुर खीरी में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के कार्यक्रम का विरोध करने पहुंचे 5 किसानों की गाड़ी से रौंद कर हत्या की गई थी, लेकिन इस हत्याकांड में भी SKM ने किसानों को गुमराह किया राकेश टिकैत समेत अन्य नेताओं को ही लखीमपुर खीरी तक पहुंचने दिया गया ?उन्होंने गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को केंद्रीय मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने तथा उसे व उसके बेटे समेत अन्य हत्यारोपियों की गिरफ्तारी न होने तक शहीद किसानों का अंतिम संस्कार न करने का आग्रह किया ।

गुजरात चुनाव: दांव पर 788 उम्मीदवारों की किस्मत ,पहले चरण में 89 सीटों पर मतदान आज

चढूनी ने सख्त कदम उठाने का आग्रह किया था

चढूनी ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा ने उन्हें रिहा कराने के लिए कोई कदम नहीं उठाए,जबकि उसके संगठन के किसान नेताओं ने युद्धवीर सहरावत, डॉ. दर्शनपाल, योगेंद्र यादव से सख्त कदम उठाने का आग्रह किया था, लेकिन अनसुना किया गया। इसे देश के किसानों से जानबूझकर छुपाया गया 4 निर्दोष किसान जेल में बंद हैं।

किसानों के खिलाफ धारा 302 का मुकद्दमा दर्ज किया था

चढूनी

चढूनी ने लिखा है कि राकेश टिकैत समेत अन्य नेताओं ने बताया था कि सरकार ने मांगें मान ली हैं, जबकि यह सफेद झूठ था, क्योंकि उससे पहले किसानों के खिलाफ धारा 302 का मुकद्दमा दर्ज किया जा चुका था। इसे देश के किसानों से जानबूझकर छुपाया गया।आज भी 4 निर्दोष किसान जेल में बंद हैं। उन्होंने आरोप लगाए कि जेल में बंद किसान के परिवार ने उसे बताया कि UP के एक संगठन के जिला प्रधान ने घर से बाजार ले जाने के बहाने से ले जाकर उसके भाई को गिरफ्तार कराया है।

राकेश के बयान से स्थानीय लोगों में नाराजगी थी

यही नहीं, संयुक्त किसान मोर्चा ने पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया। 7 मई 2022 को मीटिंग थी, लेकिन संयुक्त किसान मोर्चा ने यह कह कर मीटिंग रद्द करा दी कि चढूनी अब किसान मोर्चा का हिस्सा नहीं है। उन्होंने पत्र में यह भी चेतावनी दी है कि  मोर्चा में आर-पार का फैसला लेने की हिम्मत नहीं है । राकेश के बयान से स्थानीय लोगों में नाराजगी देखने को मिली थी. लखीमपुर में राकेश का जमकर विरोध हुआ था और लोगों ने धरना-प्रदर्शन किया था ।  75वें वर्ष पर किसान नेता राकेश टिकैत ने लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए किसानों के परिवारों को न्याय दिलाने के लिए धरना आयोजित किया था ।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को गिरफ्तार किया जाए

चढूनी

टिकैत की लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी की गिरफ्तारी और मंत्रिमंडल से बर्खास्तगी की मांग है. टिकैत ने आजतक से बातचीत में कहा था कि वे देश की आजादी के 75वें वर्ष पर 75 घंटे का धरना प्रदर्शन करने जा रहे हैं. राकेश टिकैत का कहना था कि लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में मृत किसानों के परिवार को न्याय नहीं मिला है. हमारी मांग है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को गिरफ्तार किया जाए और उन्हें मंत्रिमंडल से से बर्खास्त किया जाए ।

Director Finance Jobs in IOCL 2023 Careers