दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ हार के बाद शिखर धवन ने बदली बल्लेबाजी की रणनीति

मुंबई, 26 अप्रैल । पंजाब वानखेड़े स्टेडियम में सोमवार को चेन्नई को 11 रनों से हराने में कामयाब
रही। इससे पहले, पंजाब किंग्स ने 20 अप्रैल को दिल्ली के खिलाफ मैच में अपनी हार से सबक सीखा है, जहां

उनके ज्यादा अटैकिंग गेम प्लान ने उन्हें बड़ा निराश किया था। सोमवार को शिखर धवन ने 59 गेंदों में 88 रन
बनाए, जो निर्णायक साबित हुआ।

इससे पिछले मैच में ज्यादा अटैकिंग गैम खेलने को लेकर आलोचना के शिकार
रही पीबीकेएस 115 रनों पर ऑल आउट हो गई थी,

लेकिन सोमवार को वानखेड़े में 187 रन का बड़ा स्कोर खड़ा
किया।

धवन ने कहा कि उन्होंने डीसी के खिलाफ हार के बाद प्रतिक्रिया पर ध्यान केंद्रित किया और कहा कि धर्य के साथ
खेलना निर्णायक साबित हुआ। धवन ने कहा

, प्रक्रिया, मैं हमेशा इसके बारे में बात करता हूं, मैं इस पर ध्यान

केंद्रित करता हूं। मैं फिटनेस और उन कौशलों पर काम करता रहता हू, जो परिणाम देते हैं। पिच पर गेंद रुक कर
आ रही थी। लेकिन मैंने खुद को शांत रखा और जब मैं सेट हो गया, तो बड़े-बड़े शॉट लगाए।

पहले बल्लेबाजी
करते समय विकेट ना गंवाना और गेंदबाजों पर बाउंड्री हासिल करना था।

उन्होंने डीसी को हारने के बाद पंजाब कैंप के साथ अपनी बातचीत के बारे में बताया।

उन्होंने कहा, मैं टीम में
सीनियर खिलाड़ी हूं। मैं मैदान पर खिलाड़ियों और अपने कप्तान को काफी सहयोग देता हूं।

युवा जीवन में बड़ा
हासिल करने के लिए बहुत अधिक सोचते हैं, इसलिए मैं उनके साथ संवाद करने की कोशिश करता हूं।

टूर्नामेंट में
इस महत्वपूर्ण चरण में ये दो अंक बहुत महत्वपूर्ण थे, यह पंजाब किंग्स के लिए एक बड़ी जीत थी।

टीम का
अगला मुकाबला 29 अप्रैल को लखनऊ सुपर जायंट्स से होगा।

पंजाब के लिए गेंदबाजी विभाग में मजबूती प्रदान
करने वाले दक्षिण अफ्रीकी तेज गेंदबाज ने कहा कि हम शुरुआत में पीछे थे,

लेकिन मुझे शिखर और मयंक
(अग्रवाल) की सराहना करनी चाहिए, जिस तरह से उन्होंने अपना उत्साह बनाए रखा

और फिर शिखर और भानुका
राजपक्षे ने शानदार बल्लेबाजी की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *