द्रौपदी मुर्मू बनीं देश की 15वीं राष्ट्रपति,यशवंत सिन्हा को दी करारी मात

पहली आदिवासी राष्ट्रपति और दूसरी महिला राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू देश की 15वें राष्ट्रपति के रूप में जीत

President Election Result: राष्ट्रपति के हुए चुनाव में NDA उम्मीदवार रही द्रौपदी मुर्मू भारत की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति बनी, उन्होंने विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को हराया है।

भारत की पहली आदिवासी राष्ट्रपति और दूसरी महिला राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू देश के 15वें राष्ट्रपति के रूप में चुनाव जीत चुकी है। बता दें कि भारत में राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव 18 जुलाई 2022 को किए गए थे। जिसके लिए नामांकन की आखिरी तारीख 29 जून रखी गई थी। हालांकि, वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त होने जा रहा है जिसके लिए उन्होंने 25 जुलाई 2017 को ग्रहण किया था जबकि देश के नए राष्ट्रपति यानि कि 15वें राष्ट्रपति के रूप में द्रोपदी मुर्मू 25 जुलाई 2022 को शपथ लेंगी।

द्रोपदी मुर्मू

द्रोपदी मुर्मू भारत की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति बनीं

इस चुनाव में NDA की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने बड़ी जीत हासिल की है। उन्होंने विपक्षी प्रतिद्वंदी को करारी शिकस्त दी है। आपको बता दें कि मुर्मू भारत की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति बनीं हैं। उनका कार्यकाल अगले 5 सालों के लिए होगा। द्रौपदी मुर्मू को 5,77777 वोट मिले। उन्होंने विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को हराया है।राजनाथ सिंह ने दी बधाईदेश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति बनने पर बधाई दी।

उन्होंने लिखा कि राष्ट्रपति चुनाव में प्रभावी जीत दर्ज करने के लिए श्रीमती द्रौपदी मुर्मू जी को बधाई। वे गाँव, गरीब, वंचितों के साथ-साथ झुग्गी-झोपड़ियों में भी लोक कल्याण के लिए सक्रिय रहीं हैं। आज वे उनके बीच से निकल कर सर्वोच्च संवैधानिक पद तक पहुँची हैं। यह भारतीय लोकतंत्र की ताक़त का प्रमाण है।द्रौपदी मुर्मू उड़ीसा में दो बार विधायक और एक बार राज्यमंत्री के रूप में काम कर चुकी हैं। राज्यपाल के तौर पर 5 साल का उनका कार्यकाल 18 मई 2020 को पूरा हो गया था,

सांसदों से मुर्मू को मिला जोरदार समर्थन

लेकिन कोरोना के कारण राष्ट्रपति द्वारा नई नियुक्ति नहीं किए जाने के कारण उनके कार्यकाल का स्वत: विस्तार हो गया था। अपने पूरे कार्यकाल में वह कभी विवादों में नहीं रहीं।सांसदों से मुर्मू को मिला जोरदार समर्थनसंसद भवन में आज सुबह 11 बजे वोटों की गिनती शुरु हो गई थी। राष्ट्रपति पद के लिए NDA उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू सांसदों के 748 मतों में से 540 मत पाकर आगे चल रही थीं, जबकि विपक्ष केउम्मीदवार यशवंत सिन्हा को 208 वोट ही मिल पाए। निर्वाचन अधिकारी पी.सी.मोदी ने कहा कि 15 सांसदों के मत अमान्य पाए गए थे।

द्रोपदी मुर्मू

आम चुनाव के मद्देनजर जनजातीय समाज के बीच एक संदेश देने की कोशिश

अधिकारियों ने बताया कि इस राष्ट्रपति चुनाव में प्रत्येक सांसद के मत का मूल्य 700 है और मुर्मू को मिले कुल मतों का मूल्य 5,23,600 है, जो कि सांसदों के कुल वैध मतों का 72.19 प्रतिशत है, यह उनके पक्ष में ‘क्रॉस वोटिंग’ किए जाने का संकेत देता है। दूसरी ओर, सिन्हा के कुल मतों का मूल्य 1,45,600 था, जो कुल वैध मतों का 27.81 प्रतिशत है।द्रौपदी मुर्मू का नाम देश में जनजातीय समाज के बीच पैठ बनाने की भाजपा की रणनीति का हिस्सा है। इससे गुजरात के आगामी विधानसभा चुनाव और 2024 में होने वाले आम चुनाव के मद्देनजर जनजातीय समाज के बीच एक संदेश देने की कोशिश है।

दरअसल NDA के नेता नरेंद्र मोदी चौंकाने वाले सियासी निर्णयों के लिए जाने जाते हैं और ऐसे में निर्विवाद राजनीतिक करियर वाली आदिवासी नेत्री द्रौपदी मुर्मू का नाम आगे आना कतई अप्रत्याशित नहीं माना जाना चाहिए। द्रौपदी मुर्मू के पास राज्यपाल के तौर पर 6 साल से भी ज्यादा के कार्यकाल का बेहतरीन अनुभव है।

भारत की पहली आदिवासी राष्ट्रपति और दूसरी महिला राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू देश के 15वें राष्ट्रपति के रूप में चुनाव जीत चुकी है। बता दें कि भारत में राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव 18 जुलाई 2022 को किए गए थे। जिसके लिए नामांकन की आखिरी तारीख 29 जून रखी गई थी। हालांकि, वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त होने जा रहा है जिसके लिए उन्होंने 25 जुलाई 2017 को ग्रहण किया था जबकि देश के नए राष्ट्रपति यानि कि 15वें राष्ट्रपति के रूप में द्रोपदी मुर्मू 25 जुलाई 2022 को शपथ लेंगी।