Delhi 122

रंग-बिरंगे खिलते फूल धरती पर स्वर्ग

नई दिल्ली, 19 मार्च  नई दिल्ली में रंग-बिरंगे खिलते फूल धरती पर स्वर्ग का एहसास करवाते हैं और इसकी सुंदरता को बढ़ाने में नई दिल्ली नगर पालिका परिषद (एनडीएमसी) के उद्यान विभाग का कार्य काफी
सराहनीय रहा है।

जोकि स्वच्छ भारत मिशन के दृष्टिकोण को मूर्त रूप देने के साथ ही भारत की आजादी के 75 साल को आजादी का अमृत महोत्सव के रूप में मनाए जाने को चरितार्थ करता है।

फूलों की कलियों का तकनीकी विवरण

यही नहीं एनडीएमसी का ग्रीन एरिया भी बढ़ा है। उक्त बातें एनडीएमसी के उपाध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने एनडीएमसी के वरिष्ठ अधिकारियों और विभागाध्यक्षों के साथ नेहरू पार्क व शांति पथ का दौरा करने के दौरान कहीं।

उपाध्याय ने कहा कि जीवन के हर क्षेत्र से इन फूलों की प्रतिक्रिया उत्कृष्ट आ रही है।उन्होंने यह भी कहा कि इन
खूबसूरत फूलों को देखने से न केवल सकारात्मक ऊर्जा मिलती है, बल्कि तनाव मुक्त वातावरण भी मिलता है।

इस दौरान एनडीएमसी के उद्यान विभाग दक्षिण के निदेशक रईस अली व उपनिदेशक जोगिंदर डबास ने यहां खिली
फूलों की कलियों का तकनीकी विवरण देते हुए बताया कि अकबर रोड-मैथ्यू सर्कस चौराहे पर एनडीएमसी ने अलग-

मालियों व अन्य कर्मचारियों और अधिकारियों की बदौलत

अलग रंगों में पेटुनिया की फूल कलियां, एंटिरहिनम, वर्बेना, मैरीगोल्ड, साल्विया, लाक्र्सपुर-ब्लू जबकि शांति पथ पर
साल्विया, कोरॉप्सिस, लिनम, डिमोर्फोटिका आदि के साथ अलग-अलग रंगों में पेटुनिया लगाया है।

उपाध्याय ने बताया कि एनडीएमसी दिल्ली के कुल क्षेत्रफल का मात्र 3 फीसदी है बावजूद इसके 65.5 हरित क्षेत्र है।

इसमें 6 प्रमुख उद्यानों और 3 अंतर्राष्ट्रीय संबंध स्मारक पार्कों के साथ, 5 गुलाब उद्यान, 270 किमी लंबाई के 135 रास्ते,
8 नर्सरी, 3 हाईटेक नर्सरी, 51 गोलचक्कर, 3 हैप्पीनेस पार्क, 24 वर्टिकल गार्डन, 123 आवासीय पार्क, 450

सीपीडब्ल्यूडी कॉलोनी पार्क व 1 एनडीएमसी स्कूल ऑफ गार्डनिंग है। ये सब सफलता उद्यान विभाग के मेहनती
मालियों व अन्य कर्मचारियों और अधिकारियों की बदौलत संभव हो पाया है।