Tuesday, May 24, 2022
Homeराजनीतिप्रधानमंत्री ने दांडी यात्रा की स्मृति में महात्मा गांधी सहित अन्य सभी...

प्रधानमंत्री ने दांडी यात्रा की स्मृति में महात्मा गांधी सहित अन्य सभी महानुभावों को दी श्रद्धांजलि

देश के स्वाभिमान की रक्षा के लिए दांडी तक मार्च किया

नई दिल्ली, 12 मार्च  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने महात्मा गांधी और उन सभी प्रतिष्ठित व्यक्तियों को
श्रद्धांजलि अर्पित की, जिन्होंने अन्याय का विरोध करने और हमारे देश के स्वाभिमान की रक्षा के लिए दांडी तक
मार्च किया था।

महात्मा गांधी ने 12 मार्च 1930 से 6 अप्रैल 1930 तक ब्रिटिश नमक एकाधिकार के खिलाफ
दांड़ी मार्च किया था।

सत्याग्रह स्मारक राष्ट्र को समर्पित किया

प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, “गांधी जी और उन सभी महानुभावों को श्रद्धांजलि, जिन्होंने अन्याय का विरोध
करने और हमारे देश के स्वाभिमान की रक्षा के लिए दांडी की यात्रा की। 2019 से अपना भाषण साझा कर रहा हूं
जब दांडी में राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह स्मारक राष्ट्र को समर्पित किया गया था।”

80 सत्याग्रहियों की प्रतिमाओं का भी प्रधानमंत्री ने अनावरण किया

प्रधानमंत्री ने 2019 में महात्मा गांधी की पुण्य तिथि पर राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह स्मारक राष्ट्र को समर्पित किया
था। ब्रिटिश कानून के खिलाफ समुद्र के पानी से नमक बनाने के लिए 1930 में ऐतिहासिक दांडी नमक यात्रा के
दौरान गांधी के साथ चलने वाले 80 सत्याग्रहियों की प्रतिमाओं का भी प्रधानमंत्री ने अनावरण किया था।

इस
स्मारक में 1930 के ऐतिहासिक नमक मार्च से जुड़ी विभिन्न घटनाओं और कथाओं को दर्शाने वाले 24 बोलते
भित्ति चित्र हैं। स्मारक परिसर की ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए इसमें सौर वृक्ष लगाए गए हैं।

पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र होगा

इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कहा था कि दांडी स्मारक महात्मा गांधी के आग्रह, स्वेच्छाग्रह और
सत्याग्रह के आदर्शों को संपुटित करता है और यह आने वाले दिनों में पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र होगा।
यह स्मारक हमें आजादी के लिए हमारे देश के लोगों के महान बलिदान की याद दिलाता है।

गांधी जी की विरासत को आगे ले जाने के एक प्रयास

प्रधानमंत्री ने कहा, “गांधी जी की विरासत को आगे ले जाने के एक प्रयास में, हमारी सरकार ने खादी से जुड़े करीब
2000 संस्थानों का आधुनिकीकरण किया है। इससे लाखों शिल्पियों और कर्मियों को लाभ पहुंचा है।

खादी अब न
केवल फेशन का बल्कि महिला अधिकारिता का भी प्रतीक बन गई है।

हथकरघा दिवस के रूप में मनाने की घोषणा

” स्वदेशी ने आजादी के आंदोलन में अत्यंत
महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, इसी प्रकार, हथकरघा गरीबी को दूर करने में मददगार होगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि
सरकार ने हथकरघा को बढ़ावा देने के लिए हर वर्ष 7 अगस्त को हथकरघा दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की
है।

स्वच्छता को गांधी जी द्वारा दिए गए महत्व की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि हमने स्वच्छ भारत के लिए
उन मूल्यों को आत्मसात किया है। स्वच्छ भारत अभियान का प्रभाव यह है

कि ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता एनडीए
सरकार के आने के बाद 2014 के 38 प्रतिशत से बढ़कर 98 प्रतिशत हो गई है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments