फोर्ड इकोस्पोर्ट के चेन्नई का प्लांट भी बंद, भारत को हमेशा के लिए बाय-बाय

फोर्ड इकोस्पोर्ट की आखिरी यूनिट के बाद प्लांट बंद

फोर्ड इकोस्पोर्ट

फोर्ड इंडिया (Ford India) ने भारतीय बाजार में अपना कारोबार पिछले साल सितंबर में बंद कर दिया था। कंपनी के भारत में दो प्लांट हैं। एक गुजरात में अहमदाबाद के पास साणंद में स्थित है। वहीं दूसरा तमिलनाडु में चेन्नई के पास स्थित है। साणंद प्लांट से फोर्ड ने अपनी छोटी कारों जैसे फिगो, फ्रीस्टाइल और एस्पायर का प्रोडक्शन करती थी।

Read This:- अडानी ग्रुप ने खाने का तेल किया 30 रुपये सस्ता, बड़ा फैसला

जबकि चेन्नई प्लांट से फोर्ड ने इकोस्पोर्ट और एंडेवर का प्रोडक्शन किया। कंपनी ने साणंद प्लांट में प्रोडक्शन पहले ही बंद कर दिया था। अब उसने अपने चेन्नई प्लांट से लास्ट फोर्ड इकोस्पोर्ट की लास्ट यूनिट का प्रोडक्शन किया। अब इस प्लांट में फोर्ड इकोस्पोर्ट का प्रोडक्शन नहीं होगा। यानी फोर्ड ने अब भारतीय बाजार को हमेशा के लिए बाय-बाय कर दिया।

फोर्ड इकोस्पोर्ट के फीचर्स और स्पेसिफिकेशंस

फोर्ड इकोस्पोर्ट के पेट्रोल वर्जन में कंपनी ने 1.5 लीटर की क्षमता का 3 सिलेंडर युक्त पेट्रोल इंजन दिया है जो कि 121hp की पावर और 149Nm का टॉर्क जेनरेट करता है। वहीं डीजल वर्जन में कंपनी ने 1.5 लीटर की क्षमता का 4 सिलेंडर इंजन दिया है, जो कि 100hp की पावर और 215Nm का टॉर्क जेनरेट करता है। दोनों इंजन 5 स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन गियरबॉक्स के साथ आते हैं। इस SUV में 52 लीटर का टैंक दिया है। इसे एक बार फुल कराने के बाद आप 1,196km का सफर तय कर सकते हैं।

फोर्ड इकोस्पोर्ट

>> फोर्ड इकोस्पोर्ट में साइड कर्टन एयरबैग, ट्रैक्शन कंट्रोल, इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी कंट्रोल, हिल स्टार्ट एसिस्ट, क्रूज कंट्रोल ऑटो डिमिंग इनसाइड रियर व्यू मिरर, ऑटो वाइपर्स, पिछले सीट पर आर्म रेस्ट, लैदर सीट कवर्स जैसे फीचर्स नहीं दिए हैं। इसमें एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम (ABS), इलेक्ट्रॉनिक ब्रेकफोर्स डिस्ट्रीब्यूशन (EBD), रियर कैमरा, रियर वाइपर, डिफॉगर, डुअल फ्रंट एयरबैग जैसे सेफ़्टी फीचर्स दिए हैं।

देशभर में फोर्ड के 11 हजार कर्मचारी थे

फोर्ड इकोस्पोर्ट

भारत में फोर्ड की मैन्युफैक्चरिंग यूनिट मराईमलाई और साणंद में थीं, जहां पर करीब 4,000 कर्मचारी काम करते थे। साणंद के इंजन प्लांट में 500 से अधिक कर्मचारी थे। जो सबसे अधिक बिकने वाले रेंजर पिकअप ट्रक के लिए इंजन का प्रोडक्शन करता था। यहां लगभग 100 कर्मचारी पुर्जों के वितरण और ग्राहक सेवा का समर्थन करते थे। हालांकि, देशभर में कंपनी के 11,000 से अधिक कर्मचारी थे।

अगस्त 2021 में सालना बिक्री 68.1% घटी

अगस्त 2021 में फोर्ड ने देश भर में 1,508 गाड़ियां बेचीं, जो पिछले साल अगस्त में 4,731 यूनिट्स थीं। यानी कंपनी की बिक्री में 68.1% की गिरावट देखने को मिली। फाडा की रिपोर्ट के मुताबिक, पैसेंजर व्हीकल सेगमेंट में अगस्त में फोर्ड इंडिया प्राइवेट लिमिटेड की 3,604 गाड़ियों के रजिट्रेशन हुए। वहीं, उसका मार्केट शेयर सिर्फ 1.42% रहा। अगस्त 2020 में कंपनी का मार्केट शेयर 1.90% रहा था।

Jobs:- Citizen Credit Co-Operative Bank Ltd CCBL Recruitment Probationary Officers & Probationary Associates Online Form 2022

2018 में हुए थे 10 लाख ग्राहक

फोर्ड ने भारत में 1995 में महिंद्रा से पार्टनरशिप करके एंट्री की थी। उस वक्त कंपनी का नाम महिंद्रा फोर्ड इंडिया लिमिटेड (MFIL) था। फोर्ड इंडिया ने जुलाई 2018 में 1 मिलियन (10 लाख) ग्राहकों के आंकड़ा छुआ था। तब कंपनी के प्रेसिडेंट और मैनेजिंग डायरेक्टर अनुराग मेहरोत्रा ने कहा था कि भारत में 10 लाख ग्राहकों तक पहुंचने पर हमे गर्व हो रहा है। अपने ग्राहकों के विश्वास के लिए हम ऋणी हैं। हम भारत में अपने इस प्रयास को जारी रखेंगे।