Tuesday, May 24, 2022
Homeराजनीतिभारतीयों को सभी धर्मों को स्वीकार करने का अभ्यास होना चाहिए :...

भारतीयों को सभी धर्मों को स्वीकार करने का अभ्यास होना चाहिए : थरूर

सभी धर्मों को स्वीकार करने का अभ्यास हो

कोलकाता, 26 मार्च  वरिष्ठ कांग्रेसी नेता एवं सांसद शशि थरूर ने शनिवार को कहा कि भारतीयों को
न केवल सहिष्णुता बल्कि सभी धर्मों को स्वीकार करने का अभ्यास होना चाहिए।

श्री थरूर यहां एबीपी नेटवर्क की
ओर से आयेजित ‘आइडियाज ऑफ इंडिया’ सम्मेलन का उदघाटन कर रहे थे।

इस मौके पर उन्होंने “स्वतंत्रता का
विचार-कानून, स्वतंत्रता और लोकतंत्र की सीमाएं” विषय पर संगोष्ठी को संबोधित करते हुए स्वामी विवेकानंद की
शिक्षाओं का उद्धरण किया और कहा कि स्वामी जी ने सभी धर्मों के सत्य को प्रतिपादित किया था।

स्वामी विवेकानंद ने सभी धर्मों को सत्य माना

उन्होंने कहा,
“स्वामी विवेकानंद ने सभी धर्मों को सत्य माना है। उन्होंने जो सिखाया है, हमें उसका अभ्यास करना चाहिए।”

राष्ट्रवाद के आख्यान और बाहरी लोगों की भूमिका पर श्री थरूर ने कहा

सुशासन की स्थापना को और मजबूती के साथ आगे बढ़ाएं : योगी आदित्‍यनाथ

, “भारतीय सभ्यता कई सदियों से विभिन्न
जातियों से प्रभावित रही है। मेरे अपने विचार पंडित जवाहरलाल नेहरू और महात्मा गांधी के साथ मेल खाते हैं।”

कुछ व्यक्तियों और राजनीतिक दलों द्वारा भारत को एक स्वतंत्र देश बनाने का श्रेय लेने की आलोचना के संदर्भ में
उन्होंने आरोप लगाया कि हिंदू महासभा एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने स्वतंत्रता आंदोलन में भाग नहीं लिया था
और इसके बजाय लोगों से अंग्रेजों के साथ सहयोग करने का आग्रह किया।

हिंदुत्व के दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व हिंदू महासभा और आरएसएस ने किया

उन्होंने जोर दिया कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी। हिंदुत्व के दृष्टिकोण का
प्रतिनिधित्व हिंदू महासभा और आरएसएस ने किया।

वहीं इन दोनों संगठनों ने अलग-अलग तरीकों से लोगों से
अंग्रेजों के साथ सहयोग करने की सिफारिश की थी।

वास्तव में हिंदू महासभा ने बंगाल में सत्ता हथियाने के लिए
मुस्लिम लीग से हाथ मिलाया था। कांग्रेसी नेता ने कहा,

“हमें चर्चा और बहस के लिए जगह का विस्तार करना
चाहिए। हमें धर्मनिरपेक्षता के बजाय बहुलवाद और विविधता जैसे शब्दों का प्रयोग करना चाहिए।”

लगातार चार दिन बैंक बंद, 29 मार्च तक ग्राहक होंगे परेशान

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments