भूपेश ने रेलवे के छत्तीसगढ़ से गुजरने वाली 22 ट्रेनों को रद्द करने पर की कड़ी आपत्ति

रायपुर, 24 अप्रैल छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रेलवे के छत्तीसगढ़ से चलने और गुजरने
वाली 22 यात्री ट्रेनों का परिचालन आज से एक माह के लिए बन्द करने के फैसले पर कड़ी आपत्ति जताई है।

श्री बघेल के निर्देश पर अपर मुख्य सचिव द्वारा रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी को पत्र
लिखकर मुख्यमंत्री की आपत्ति से अवगत कराते हुए इन ट्रेनों का परिचालन यथावत जारी रखने का आग्रह किया है।

मालगाडियों को चलाने के लिए प्रधान मुख्य परिचालन प्रबंधक, दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर द्वारा आज से 22
एक्सप्रेस तथा लोकल ट्रेनों का परिचालन आगामी एक माह के लिये बंद कर दिया गया है।

यह सभी ट्रेन छत्तीसगढ़
राज्य के अंतर्गत रेल मार्गों से प्रतिदिन आना-जाना करती हैं।

इन ट्रेनों के परिचालन बंद करने के पूर्व यात्रियों के
लिए किसी प्रकार की वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की गई है।

मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू ने इस संबंध में रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष को लिखे पत्र में कहा हैं कि
इसके पूर्व भी प्रधान मुख्य परिचालन प्रबंधक, दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर के 31 मार्च के आदेश द्वारा कुल

10 ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया गया था। उपरोक्त रेलों का परिचालन यथावत रखने हेतु राज्य शासन द्वारा
गत 05 अप्रैल को पत्र लिखकर अनुरोध किया गया था, किन्तु राज्य शासन के अनुरोध को अनदेखा किया गया।

उन्होने पत्र में लिखा है कि प्रदेश में मध्यम एवं निम्न वर्ग के अनेक यात्री है, जो प्रतिदिन उपरोक्त रेलों से यात्रा
करते हुए अपने गंतव्य स्थल तक पहुंचते हैं। रेलों के बंद होने से प्रतिदिन यात्रा करने वाले छोटे-छोटे व्यवसायी,

रोजगार एवं शासकीय तथा अर्द्धशासकीय सेवा से जुड़े व्यक्तियों, शालेय एवं महाविद्यालय के छात्रों आदि के जाने-

आने में काफी असुविधा होगी। ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिये जाने से निश्चित रूप से ग्रीष्मावकाश में की जाने
वाली यात्राओं पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

अपर मुख्य सचिव ने रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी से प्रधान मुख्य परिचालन प्रबंधक,
दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे, बिलासपुर को उनके 23 अप्रैल को जारी आदेश को तत्काल प्रभाव से निरस्त करते हुए बन्द
की गई यात्री ट्रेनों का परिसंचालन बहाल किये जाने हेतु तत्काल निर्देशित करने का अनुरोध किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *