महंगाई के चलते 15 फीसदी तक रसोई का बजट बढ़ा

गाजियाबाद, 15 अप्रैल आम से लेकर खास लोग भी महंगाई की मार से हैरान और परेशान हैं। बीते
करीब 25 दिनों में पेट्रोलियम पदार्थों एवं गैस की कीमतों में लगातार वृद्धि हुई है।

इससे रोजमर्रा की चीजों, खाद्य
पदार्थों सहित उद्योगों के लिए जरूरी कच्चा माल कई गुना महंगा हो गया है।

मोरबी में हनुमान जी की इस भव्य मूर्ति का लोकार्पण 

औद्योगिक उत्पादन की लागत 10
फीसदी तक महंगी हो गई है। लोगों के रसोई का बजट 15 फीसदी तक बढ़ गया है। सब्जी और फलों की कीमत
भी आसमान छूने लगी है।

थोक मंडी में नींबू की कीमत 300 रुपये प्रति किलो से ऊपर पहुंच गया है। किराना बाजार में रिफाइंड सरसों तेल
से लेकर दलहन के भाव में भी जबरदस्त तेजी आई है।

घंटाघर किराना बाजार के थोक व्यापारी संदीप बंसल का
कहना है कि रिफाइंड का आयात विदेशों से होता है।

यूक्रेन युद्ध के बाद से रिफाइंड के दाम में करीब 50 रुपये
प्रति लीटर की बढ़ोतरी हो गई है।

आयुष्मान भारत : शनिवार से 1 लाख कल्याण केंद्रों पर मिलेगी टेली-परामर्श सुविधा

वहीं डीजल और सीएनजी के दाम में बीते कुछ दिनों में रिकॉर्ड बढ़ोतरी से दलहन
और खाद्य वस्तुओं,

सब्जियों आदि के दामों में भी कई गुना महंगाई बढ़ी है। क्योंकि लंबी दूरी के परिवहन वाहनों
के माल ढुलाई पर असर पड़ रहा है ।

दाम में बढ़ोतरी रुके
इंदिरापुरम के विधायक कॉलोनी में रहने वाले श्याम दुबे गुरुग्राम में एक निजी कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं।

उन्होंने कहा वर्क फ्रॉम होम होने की वजह से घर से बाहर ज्यादा नहीं निकलना हो रहा है। केवल सप्ताहांत में
परिवार के साथ निकलता हूं।

पेट्रोलियम पदार्थों के दाम में लगातार हो रही बढ़ोतरी पर रोक लगना चाहिए।
200 रुपये ज्यादा दे रहे

इंदिरापुर के अहिंसा खंड-दो स्थित संवाद विहार सोसाइटी में रहने वाली नेहा सिंह तोमर ने बताया कि पहले
पीएनजी का मासिक बिल 400 रुपये आता था,

दिल्ली फिल्म नीति का पोर्टल होगा पूरी तरह डिजिटल, एक मंच पर 25 एजेंसियां देंगी मंजूरी

अब 600 रुपये आ रहा है। घर में डीजल और पेट्रोल की दो गाड़िया
हैं। पहले 500 रुपये में लंबी दूरी की यात्रा कर लेते थे,

अब नोएडा से घर आवाजाही करने में ही गाड़ी का तेल
खत्म हो जा रहा है।

कमाई इतनी नहीं
साहिबाबाद में रहने वाले अवधेश कैब चालक हैं।

उन्होंने बताया कि परिवार में चार सदस्य हैं। बच्चों को पढ़ाई का
खर्च, रसोई का खर्च,

सहित तमाम खर्च होने से मुश्किलें खड़ी हो गई है। रोजाना करीब 500 रुपये का खर्च हो रहा
है। मगर खर्च और महंगाई के हिसाब से कमाई नहीं हो रही है। महीना का आखिरी आते-आते कमाए सारे पैसे
खत्म हो जा रहे हैं।

तुलनात्मक दरें (20 मार्च से)
वस्तु अब तब

पेट्रोल 105.26 95.29

डीजल 96.82 86.80

सीएनजी 74.17 58.58

सिलेंडर 897.5 947.5

पीएनजी 54.75 39.25

पेट्रोल-डीजल के दाम लगातार नौवें दिन स्थिर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *