राम गोपाल वर्मा के खिलाफ कोर्ट पहुंचा भाजपा कार्यकर्ता, द्रौपदी मुर्मू पर ट्वीट का मामला

राम गोपाल वर्मा के खिलाफ कोर्ट पहुंचा भाजपा कार्यकर्ता

राम गोपाल वर्मा

एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को लेकर किए गए एक ट्वीट के चलते फिल्ममेकर राम गोपाल वर्मा मुसीबत में फंसते नजर आ रहे हैं। अपने विवादित ट्वीट को लेकर राम गोपाल वर्मा ने सफाई भी दी थी लेकिन यह मामला अभी ठंडा पड़ता नहीं दिख रहा है। भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता होने का दावा करने वाले शख्स ने मुंबई की एक अदालत का रुख किया है। शख्स ने राम गोपाल वर्मा के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई और कार्रवाई की मांग की।

READ THIS:- अजवाइन से जुड़े ये 3 असरदार नुस्खे, सिरदर्द से रहते हैं परेशान तो तुरंत राहत देंगे

राम गोपाल वर्मा के ट्वीट का किया उल्लेख

राम गोपाल वर्मा

सुभाष राजौरा नाम के शख्स ने मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष आईपीसी की धारा 499 और 500 (मानहानि), 504 (जानबूझकर किसी व्यक्ति का अपमान करना) और 506 (आपराधिक धमकी के लिए सजा) के तहत कार्रवाई की मांग की थी। राजौरा ने अपनी शिकायत में वर्मा के 22 जून के ट्वीट का उल्लेख किया। शनिवार को उनके वकील ने बताया कि राजौरा ने 14 जुलाई को मामले में शिकायत दी थी।

कब होगी सुनवाई

वकील ने बताया कि पुलिस के एफआईआर दर्ज करने से मना करने के बाद शिकायतकर्ता ने अदालत का दरवाजा खटखटाया है। 10 अक्टूबर को बांद्रा कोर्ट में मामले की सुनवाई होगी।

JOBS:- SEBI Assistant Manager Information Technology IT Recruitment 2022 Apply Online Form

ट्वीट में क्या लिखा था

राम गोपाल वर्मा ने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘अगर द्रौपदी राष्ट्रपति हैं तो पांडव कौन हैं? और ज्यादा जरूरी सवाल कौरव कौन हैं?’

विवाद के बाद दी सफाई

उनके इस ट्वीट पर विवाद बढ़ा तो राम गोपाल वर्मा ने  सफाई में कहा, ‘यह पूरी तरह विडंबना के तौर पर कहा गया है और इसका कोई अन्य इरादा नहीं था… महाभारत मे द्रौपदी मेरा पसंदीदा किरदार है, चूंकि नाम इतना दुर्लभ है इसलिए मुझे उससे जुड़े किरदार याद आ गए और यह मेरी अभिव्यक्ति थी। किसी की भी भावनाओं को आहत करने का कोई इरादा नहीं है।