सत्य निकेतन हादसा : निगम के नोटिस के बाद भी चल रहा था इमारत का निर्माण

नई दिल्ली, 25 अप्रैल दिल्ली के सत्य निकेतन में तीन मंजिला मकान में किए जा रहे निर्माण को
लेकर दक्षिण दिल्ली नगर निगम के भवन विभाग के अधिकारियों की तरफ से संपत्ति मालिक को बीते 31 मार्च को

ही नोटिस जारी किया गया था। निगम की ओर से नोटिस जारी होने के बाद स्थानीय पुलिस ने भी 11 अप्रैल को
संपत्ति मालिक को काम बंद करने के लिए कहा था।

इसके बावजूद इमारत में काम चलता रहा और सोमवार को
बड़ा हादसा हो गया।

निगम अधिकारियों का कहना है कि हादसे के बाद उपायुक्त सहित अन्य निगम अधिकारी मौके पर पहुंचे और वहां
से मलबा हटाने का कार्य शुरू कराया गया।

दक्षिण निगम के अधिकारियों ने बताया कि सोमवार को निगम के
जोनल कंट्रोल रूम को सत्यनिकेतन में इमारत गिरने की सूचना दोपहर बाद मिली थी।

सूचना मिलने के बाद तुरंत
निगम विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे और पाया कि जिस इमारत में निर्माण कार्य किया जा रहा था वह 90

गज का है। यह मकान लगभग 25 साल पुराना है और उसमें तीसरी मंजिल तक अतिरिक्त निर्माण कार्य किया जा
रहा था, अचानक यह इमारत ढह गई।

बताया गया कि डीएमसी एक्ट के तहत 31 मार्च को इस इमारत को नोटिस
जारी किया गया था।

दो मजदूरों की मौत
दरअसल, सोमवार दोपहर सत्या निकेतन इलाके में एक निर्माणाधीन इमारत ढह गई।

इमारत में काम कर रहे दो
मजदूरों की मौत हो गई।

जबकि पांच मजदूर घायल हुए है। घायलों में मो. अर्श आलम, गुलफराज, अरमान,
असलम और फिरदौस शामिल है।

जबकि मृतकों नसीम और बिलाल के शवों को साऊथ कैम्पस पुलिस ने कब्जे में
लेकर पोस्टमार्टम के लिए सुरक्षित रखवा दिया है।

साउथ कैंपस पुलिस ने मकान मालिक और ठेकेदार के खिलाफ
जांच शुरू कर दी है। पुलिस यह जानकारी जुटा रही है

कि नगर निगम द्वारा खतरनाक घोषित किए जाने के बाद
भी इमारत में निर्माण कार्य कैसे चल रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *