स्कूल्स इनोवेट करेंगे तो होगा स्टूडेंट्स का फायदा

स्कूल्स इनोवेट करेंगे तो होगा स्टूडेंट्स का फायदा

स्कूल्स स्टूडेंट्स को ऑनलाइन क्लास में दो तरह का डर सताता है – एक तरफ मम्मी और दूसरी तरफ टीचर! किसी नन्ही बच्ची का दर्द-ए-बयां, पहली बार में मुस्कुराने को मजबूर करता है और दूसरी बार में ऑनलाइन क्लासेस के कारण प्रेशर को बताता है। दिल्ली में बदलेंगे नियम सरकार ने शुरू की तैयारी, सभी सड़कों पर लागू होगी लेन ड्राइविंग

मार्च 2020 से शुरू हुई एक ब्लैक स्वान घटना (ऐसी घटना जो रेयरली कभी होती है) कोविड महामारी ने एजुकेशन वर्ल्ड को हिला कर रख दिया। इस चेंज ने पॉलिसी, पढ़ाने के तरीकों, टेक्नोलॉजी और साइकोसोशल फैक्टर्स (मनोसामाजिक कारकों) से जुड़े कई प्रॉब्लम्स को बढ़ाया। आज स्कूल्स खुल गए हैं, स्कूल्स ऑनलाइन हमेशा के लिए एजुकेशन का पार्ट बन चुका है।

लैपटॉप, टैबलेट तो भूल जाइए, लॉकडाउन के दौरान फर्नीचर (स्टडी/वर्क टेबल्स, चेयर्स) की सेल्स बढ़ी, क्योंकि लोगों को घरों से काम करने और पढ़ने के लिए जरूरत पड़ी। अचानक बढ़ी डिमांड का IT सप्लाई पर फर्क पड़ा। सप्लाई कम थी, ऊपर से लॉकडाउन। डिलीवरी हो नहीं रही थी।

स्कूल्स दोस्तों से मिल पाना और ना ही स्कूल/क्लासरूम का माहौल। जो परिवार अपने बच्चों को लैपटॉप, डेस्कटॉप कंप्यूटर या टैबलेट दिला पाए उनका तो फिर भी ठीक, लेकिन जिन बच्चों को मोबाइल स्क्रीन पर क्लासेज अटेंड करनी पड़ी, उनकी हालत खराब थी। पढ़ाई का प्रेशर, अच्छे मार्क्स लाने का प्रेशर, लेकिन क्लासेज मोबाइल की छोटी से स्क्रीन पर देखना पड़े, घर में होने वाली एक्टिविटीज डिस्टर्ब हों तो कई बार कॉन्सेप्ट्स ठीक से समझ नहीं आते। परिवार का सपोर्ट बहुत जरूरी था। स्कूल, स्कूल होता है घर, घर। स्कूल जैसा अनुशासन स्कूल में मिलता है, घर पर नहीं मिल सकता

स्कूल्स इनोवेट करेंगे तो होगा स्टूडेंट्स का फायदा

स्कूल्स इंडियन सोसाइटी का ग्रेडेड स्ट्रक्चर अब डिजिटल डिवाइड के रूप में सामने आया। अर्थात अमीरों और गरीबों के बीच अंतर। अमीर परिवार ज्यादातर शहरों में रहते है जहां इलेक्ट्रिसिटी से लेकर इंटरनेट कनेक्शन तक सभी कुछ उपलब्ध है। करोड़ों गरीब और मिडिल क्लास फैमिलीज ने अपना गोल्ड और गाय/बैल बेच कर बच्चों को स्मार्टफोन दिलाया। फिर इंटरनेट कनेक्शन का प्रॉब्लम!

स्कूल्स डिजिटल समझ को बढ़ाना, और इसकी जरूरत स्टूडेंट्स, टीचर और पेरेंट्स तीनों को है। कई बार समस्याएं बहुत छोटी होती हैं, लेकिन हमारा तकनीकी नॉलेज/स्किल कम होने की वजह से हम उसे हल नहीं कर पाते। जैसे टीचर्स को ऑनलाइन में लिखने में बहुत प्रॉब्लम्स आईं।

ऑनलाइन में स्टूडेंट्स तो सवाल पूछ लेते हैं, लेकिन टीचर्स कई बार टेक्निकल प्रॉब्लम्स के चलते ठीक से कम्यूनिकेट नहीं कर पाते। जैसे जब स्टूडेंट डाउट पूछता है तब टीचर की तरफ आवाज जाना बंद हो जाती है या कोई और कनेक्टिविटी की प्रॉब्लम होती है। ऐसा होने पर स्टूडेंट्स और टीचर दोनों की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। स्टूडेंट्स को अपने डाउट्स नोट कर के रख लेना चाहिए, ताकि बाद में पूछ सके और टीचर्स को भी यह ध्यान रखना चाहिए की किसके डाउट्स सॉल्व करना रह गया था।

स्कूल्स इनोवेट करेंगे तो होगा स्टूडेंट्स का फायदा

स्कूल्स में  एक टीचर थी, उनको जब अचानक ऑनलाइन क्लासेज लेनी पड़ी तो उनके पास घर पर ना तो लैपटॉप था और ना ही टैबलेट। टैबलेट तो स्कूल ने अवेलेबल करवा दिया, लेकिन उसका स्टाइलस खराब निकला, और कोई रास्ता ना देख उस टीचर ने यू-ट्यूब पर जाकर टेम्पोरेरी स्टाइल्स बनाने का मेथड सीख कर घर पर ही स्टाइलस बना कर काम चलाया। तो, इनोवेट एंड मूव ऑन।

भारतीय समाज की श्रेणीबद्ध संरचना अब डिजिटल डिवाइड के रूप में उभरी है। यानी अमीर और गरीब के बीच का अंतर। अमीर परिवार ज्यादातर शहरों में रहते हैं जहां बिजली से लेकर इंटरनेट कनेक्शन तक सब कुछ उपलब्ध है। करोड़ों गरीब और मध्यम वर्गीय परिवारों ने बच्चों को स्मार्टफोन देने के लिए अपना सोना और गाय/बैल बेच दिए। फिर इंटरनेट कनेक्शन की समस्या

डिजिटल समझ बढ़ाना, और इसकी आवश्यकता तीनों छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों को है। कभी-कभी समस्याएं बहुत छोटी होती हैं, लेकिन हमारे तकनीकी ज्ञान/कौशल की कमी के कारण हम उनका समाधान नहीं कर पाते हैं। जैसे शिक्षकों को ऑनलाइन लिखने में कई समस्याओं का सामना करना पड़ा। सबका स्तर ऊंचा करो।

Delhi Police Driver Recruitment 2022 | दिल्ली पुलिस ड्राइवर 1400 पदों पर भर्ती