Special Foundation Course
हिपा के 98वें Special Foundation Course में प्रशिक्षु अधिकारी भाग ले रहे हैं, गुरुगुरु ने राष्ट्रपति से मुलाकात की

हिपा के 98वें Special Foundation Course में प्रशिक्षु अधिकारी भाग ले रहे हैं, गुरुगुरु ने राष्ट्रपति से मुलाकात की

आज, 24 नवंबर, 2023 को राष्ट्रपति भवन में हिपा, गुरुग्राम में 98वेंSpecial Foundation Course में नामांकित अधिकारी प्रशिक्षुओं के एक समूह ने श्रीमती से मुलाकात की। द्रौपदी मुर्मू, भारत के राष्ट्रपति।

Special Foundation Course
Special Foundation Course भारत के राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू

भारत के राष्ट्रपति

Special Foundation Course
Special Foundation Course राष्ट्रपति ने कहा कि देश के बहुमुखी विकास में हमारे नागरिक कर्मियों ने बहुत मदद की है

कार्यक्रम में बोलते हुए, राष्ट्रपति ने कहा कि देश के बहुमुखी विकास में हमारे नागरिक कर्मियों ने बहुत मदद की है। उन्होंने आगे कहा कि देश की अखंडता और एकता को बढ़ाने की जिम्मेदारी भी उन पर है. हमारे नागरिक अधिकारियों की प्रतिबद्धता के बिना, देश वर्तमान विकास का अनुभव नहीं कर पाएगा।

ये भी पढ़े: भारत के राष्ट्रपति ने “New Education for New India”की संबलपुर के ब्रह्माकुमारीज़ में घोषणा की

Special Foundation Course

Special Foundation Course
Special Foundation Course राष्ट्रपति ने कहा कि राष्ट्र के लिए समावेशी विकास के उद्देश्य को प्राप्त करना नागरिक अधिकारियों की जिम्मेदारी है

राष्ट्रपति ने कहा कि राष्ट्र के लिए समावेशी विकास के उद्देश्य को प्राप्त करना नागरिक अधिकारियों की जिम्मेदारी है। भारत की जनसंख्या देश के विकास में सक्रिय रूप से भाग लेती है।

उन्होंने आगे कहा कि जैसे-जैसे नवीनतम प्रौद्योगिकियां विकसित हुई हैं, “इलेक्ट्रॉनिक गवर्नेंस,” “स्मार्ट गवर्नेंस,” “प्रभावी गवर्नेंस” और अन्य वाक्यांश यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता को उजागर करने के लिए सामने आए हैं कि नागरिकों को जल्दी और प्रभावी ढंग से सेवाएं प्राप्त हों।

Visit:  samadhan vani

सिविल कार्यकर्ताओं का दायित्व

Special Foundation Course
Special Foundation Course सिविल कार्यकर्ताओं का दायित्व है कि वे आम जनता की चिंताओं और शिकायतों का यथाशीघ्र समाधान करें

राष्ट्रपति ने कहा कि सोशल मीडिया के युग में जनता को सेवाएं प्रदान करने के लिए आधुनिक शासन उपकरणों और अत्याधुनिक तकनीक की मांग काफी बढ़ गई है, जहां उपयोगकर्ता तुरंत अपनी शिकायतें पोस्ट कर सकते हैं। सिविल कार्यकर्ताओं का दायित्व है कि वे आम जनता की चिंताओं और शिकायतों का यथाशीघ्र समाधान करें। उनके अनुसार, युवा पुलिस अधिकारियों को ऐसी रचनात्मक नीतियां अपनाने की जरूरत है, जिससे देश के नागरिकों को वर्तमान और भविष्य दोनों में लाभ हो।

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.