96 घंटे बाद भी बुझाई नहीं जा सकी भलस्वा लैंडफिल साइट पर लगी आग

भलस्वा लैंडफिल साइट पर लगी आग 96 घंटे बाद भी बुझाई नहीं जा सकी है। लैंडफिल साइट के कुछ हिस्सों से शुक्रवार को गैस बर्नर की तरह आग की लपटें निकल रही थीं। दमकल विभाग के अधिकारी ने बताया कि छह-छह घंटे की शिफ्ट में आग बुझाने का काम जारी है।

हर शिफ्ट में पांच से छह गाड़ियों को काम में लगाया जा रहा है। यहां चारों तरफ से घेरकर आग बुझाने का काम किया जा रहा है। आग की लपटों पर काफी हद तक काबू पा लिया गया है। लेकिन मिथेन गैस बनने की वजह से आग की लपटें जगह-जगह से निकलतीं दिखाई दे रही हैं।

धुएं से लोगों का जीना मुहाल

भलस्वा लैंडफिल साइट के आसपास के इलाकों में जहरीला धुआं फैल गया है। धुएं की मोटी चादर की वजह से लोगों को सांस लेने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। पंखा और कूलर चलाने पर धुआं घर के अंदर आ रहा है। इसलिए लोग भीषण गर्मी में भी पंखा-कूलर का उपयोग नहीं कर रहे हैं। स्थानीय पार्षद अजय शर्मा ने बताया कि आसपास के लोग अपने रिश्तेदारों के घरों में रहने के लिए चले गए हैं। जो नहीं जा पाए, उनलोगों को सांस लेने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था। केशवनगर निवासी हर्षित मिश्रा ने बताया कि धुएं की वजह से आंखों में जलन की समस्या आ रही है।

लैंडफिल साइट पर कूड़ा जमा करने वाले मौजूद

आग की लपटों और धुएं के बीच लैंडफिल साइट पर कूड़ा बीनने वाले शुक्रवार को भी मौजूद थे। ये लोग कूड़े के ढेर से प्लास्टिक, टिन आदि जमाकर कबाड़ियों को बेचते हैं। यही इनकी आजीविका है। यहां पुलिस, एमसीडी और दमकल की टीम मौजूद है, लेकिन किसी ने इन लोगों को लैंडफिल साइट पर चढ़ने से रोकने की कोशिश भी नहीं की। स्थानीय निवासी सतीश कुमार ने बताया कि अगर लैंडफिल साइट धंसी तो कूड़ा जमा करने वालों की जान भी जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *