चीन ने पिछले महीने 5 खूंखार आतंकियों को बचाया ,कौन है शाहिद महमूद, जिसे चीन ने बचाया

चीन का आतंकियों को बचाने में वीटो पावर का इस्तेमाल

चीन ने पिछले महीने  5 खूंखार आतंकियों को बचाया

चीन ने 18 अक्टूबर को लश्कर आतंकी शाहिद महमूद को ब्लैक लिस्ट होने से बचाया। इसके बाद 19 अक्टूबर को मुंबई 26/11 आतंकी हमले के मास्टर माइंड हाफिज सईद के बेटे हाफिज तलहा सईद को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित होने से बचा लिया।चीन ने इस साल UNSC में ब्लैक लिस्ट होने से बचाया है। चीन ने यह अड़ंगा ऐसे समय लगाया है जब UN सेक्रेटरी जनरल एंटोनियो गुटेरेस भारत में हैं। इस दौरान उन्होंने मुंबई में 26/11 के हमले के पीड़ितों को श्रद्धांजलि दी है।              कांग्रेस चुनाव में मतपत्र पर राहुल गांधी का नाम लिख आए इसीलिए रिजेक्ट हो गए

मुंबई में यह हमला लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने ही किया था।आतंकियों में से एक है। यह 2007 से ही लश्कर से जुड़ा है। 2013 में अमेरिकी सरकार के ट्रेजरी डिपार्टमेंट ने महमूद को लश्कर के पब्लिकेशन विंग का मेंबर बताया था।महमूद पहले साजिद मीर के नेतृत्व में लश्कर-ए-तैयबा की विदेशी ऑपरेशन टीम का हिस्सा रह चुका हैं। अगस्त 2013 में महमूद को बांग्लादेश और म्यांमार में इस्लामी संगठनों के साथ संबंध बनाने का निर्देश दिया गया था।

अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा को बनाए रखने या बहाल करने के लिए प्रतिबंध लगाने या बल उपयोग करने का सहारा ले सकती है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता हर महीने बदलती है और यह अंग्रेजी के अल्फाबेटिकल ऑर्डर में होता है 5 स्थायी सदस्यों में से 4 सदस्य कोई प्रस्ताव पास कराना चाहते हैं लेकिन एक सदस्य नहीं चाहता है तो वीटो कर सकता है। ऐसा होने पर UNSC में प्रस्ताव पास नहीं हो सकेगा।

रोहिंग्याओं का ब्रेनवॉश कर आतंकवादी बनाता है

चीन ने पिछले महीने  5 खूंखार आतंकियों को बचाया

महमूद लश्कर आतंकी मोहम्मद सरवर के साथ भी काम कर चुका है। दोनों ने 2010 में लश्कर और FIF की फंड रेजिंग यानी पैसे जुटाने के लिए गाजा, म्यांमार, बांग्लादेश, सीरिया और तुर्की की यात्रा की थी। भारत सरकार ने लश्कर, हिजबुल, जैश और इंडियन मुजाहिदीन जैसे आतंकी गुटों के 18 प्रमुख कमांडरों के दाऊद इब्राहिम को UAPA के तहत आतंकी घोषित किया था। इस लिस्ट में शाहिद महमूद का भी नाम था।

चीन ने UNSC में वीटो के जरिए पाकिस्तान स्थित लश्कर आतंकी अब्दुल रहमान मक्की को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित होने से बचा लिया था। मक्की के खिलाफ भारत और अमेरिकी की ओर ज्वाइंट प्रपोजल लाया गया था।अमेरिका 2010 में अजहर पर प्रतिबंध लगा चुका है। अमेरिका के ट्रेजरी डिपार्टमेंट के मुताबिक, अजर पाकिस्तानी लोगों से आतंकवादी एक्टिविटी में शामिल होने का आह्वान करता रहता है।

मेरिका के ट्रेजरी डिपार्टमेंट ने बताया था कि शाहिद महमूद बांग्लादेश भी जा चुका है। बांग्लादेश में इस दौरान वह रोहिंग्याओं के कैंप में गया और वहां के युवाओं को लश्कर-ए-तैयबा में भर्ती हाेने के लिए पैसे भी दिए।74 साल का मक्की लश्कर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता रहा है। आतंकियों की भर्ती करने और युवकों का ब्रेनवॉश कर कट्ट्‌रपंथी बनाने के काम में शामिल रहा है।

Punjab ETT Teacher Recruitment 2022 – 5994 Vacancies