कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा अब कर्नाटक के दौरे पर,सोनिया गांधी भी चलीं पैदल

30वें दिन की शुरुआत मांड्या जिले के मल्लेनाहल्ली से की गई

कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा की शुरुआत तमिलनाडु के कन्याकुमारी से हुई थी। ये पद यात्रा पांच महीनों में 12 राज्यों को कवर करेगी। भारत जोड़ो यात्रा ने 30 सितंबर को अपने कर्नाटक चरण में प्रवेश किया है। यह पद यात्रा उत्तर भारत की ओर बढ़ने से पहले 21 दिनों के लिए कर्नाटक के दौरे पर रहेगी।गुरुवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने राहुल गांधी के नेतृत्व में निकाली जा रही भारत जोड़ो यात्रा में शिरकत की थी। इस दौरान सोनिया गांधी अपने बेटे राहुल गांधी के साथ पैदल भी चलीं थी।

भारत जोड़ो यात्रा

राहुल गांधी और सोनिया गांधी की एक तस्वीर भी सोशल मीडिया पर खूब छाई रही। जिसमें राहुल गांधी अपने मां के जूते के फीते बांधते दिखाई दे रहे हैं।इससे पहले भारत जोड़ो यात्रा के 30वें दिन की शुरुआत मांड्या जिले के मल्लेनाहल्ली से की गई थी। इस दौरान राहुल गांधी ने स्थानीय लोगों से बातचीत भी कीकांग्रेस सांसद राहुल गांधी के नेतृत्व में आज भारत जोड़ो यात्रा की शुरूआत तुमकुर के मायासांद्र से की गई। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने राहुल गांधी का स्वागत किया।

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी अपने बेटे राहुल गांधी के साथ पैदल भी चलीं

पदयात्रा के दौरान राहुल गांधी कभी अपनी मां के कंधे पर हाथ रखे नजर आए, तो कभी उन्होंने मां के जूतों के फीते खुलने के बाद उन्हें बांधा. सोनिया गांधी के जूतों के फीते बांधने वाली फोटो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है. लोग राहुल गांधी की तारीफ भी कर रहे हैं. शशि थरूर ने भी इस फोटो कोशेयर किया. उन्होंने लिखा, मां तो मां होती है, उनका कोई तोड़ नहीं होता.भारत जोड़ो यात्रा कन्याकुमारी से कश्मीर तक सफर तय करेगी. इस यात्रा को 5 महीने में पूरा करने का टारगेट रखा गया है

भारत जोड़ो यात्रा

जिसमें से एक महीना बीत चुका है. अबतक राहुल गांधी लगभग 700 किमी की यात्रा कर चुके हैं.कांग्रेस की यह भारत जोड़ो यात्रा कन्याकुमारी से श्रीनगर तक का 3,570 किलोमीटर लंबा मार्च पांच महीने में 12 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों से होकर गुजरेगा. पार्टी ने राहुल समेत 119 नेताओं को “भारत यात्री” नाम दिया है।भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी अलग-अलग लोगों से घुलते मिलते नजर आए. लोगों से बातचीत भी की.कर्नाटक के मैसूर में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने बारिश के बीच जनसभा को संबोधित किया.

राहुल ने बारिश में भीगते हुए उन्होंने भाषण जारी रखा

गांधी जयंती के मौके पर जब पूरे दिन की यात्रा के बाद राहुल लोगों को संबोधित करने के लिए मंच की तरफ बढ़े तो बारिश होने लगी. इस मौके पर राहुल ने बारिश रुकने का इंतजार नहीं किया. भीगते हुए उन्होंने भाषण जारी रखा.राहुल गांधी ने कहा, हमारी भारत जोड़ो यात्रा भाजपा व आरएसएस द्वारा फैलाई गई हिंसा व नफरत के खिलाफ है। हम भारत को जोड़ने निकले हैं। उन्होंने पीएफआई के सवाल पर कहा, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि नफरत फैलाने वाला व्यक्ति कौन है और वह किस समुदाय से आता है

तेजी से वजन घटाने के लिए रोजाना कसरत करने के साथ अपनाएं ये उपाय

भारत के स्वतंत्रता आंदोलन की लड़ाई में भाजपा कहीं नहीं दिखती है

कांग्रेस और उसके नेताओं ने आजादी की लड़ाई लड़ी। महात्मा गांधी, सरदार पटेल, जवाहर लाल नेहरू ने देश के लिए अपनी जान दी, लेकिन जहां तक मेरी समझ है आरएसएस अंग्रेजों की मदद कर रहा था और सावरकर को अंग्रेजों से पैसे मिल रहे थे। राहुल गांधी ने कहा, भारत के स्वतंत्रता आंदोलन की लड़ाई में भाजपा कहीं नहीं दिखती है।उन्होंने कहा, कांग्रेस एक ऐसी पार्टी है संविधान पर विश्वास रखती है।

गहलोत सरकार ने अदाणी को नहीं दी तरजीह

उद्योगपति गौतम अदाणी के कांग्रेस शासित राज्य राजस्थान में निवेश पर उठे सवालों पर राहुल गांधी ने कहा, मैं उद्योगपतियों के खिलाफ नहीं हूं, मैं एकाधिकार का विरोध करता हूं। अगर राजस्थान सरकार अदाणी को गलत तरीके से बिजनेस देती है तो मैं उसका भी विरोध करूंगा। उन्होंने कहा, गौतम अडानी ने राजस्थान को 60,000 करोड़ रुपये का प्रस्ताव दिया था, ऐसे प्रस्ताव को कोई भी मुख्यमंत्री मना नहीं करेगा, लेकिन राजस्थान के मुख्यमंत्री ने अडानी को कोई तरजीह नहीं दी और अपनी राजनीतिक शक्ति का दुरुपयोग नहीं किया।

नई शिक्षा नीति हमारी संस्कृति हमारे इतिहास को बर्बाद कर रही है :राहुल गांधी

देश का किसान व मजदूर महंगाई से परेशान राहुल ने कहा, भारत जोड़ो यात्रा के दौरान मैं कई लोगों से मिल रहा हूं। इनमें ज्यादातर किसान, मजदूर व छोटे उद्यमी हैं। सभी भाजपा राज में 40 प्रतिशत कमीशन व महंगाई से परेशान हैं। उन्होंने नई शिक्षा नीति पर कहा कि हम नई शिक्षा नीति का विरोध कर रहे हैं, क्यों कि वह हमारी संस्कृति हमारे इतिहास को बर्बाद कर रही है। नई शिक्षा नीति हमारे मूल्यों पर चोट है। उन्होंने कहा, कुछ लोग शिक्षा का केंद्रीकरण करना चाहते हैं, लेकिन हम इसका विकेंद्रीकरण चाहते हैं,

कांग्रेस अध्यक्ष रिमोट कंट्रोल नहीं होगा

कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए हो रहे चुनाव को लेकर उठे सवाल पर राहुल गांधी ने कहा, दोनों उम्मीदवारों (शशि थरूर और मल्लिकार्जुन खड़गे) के पास अपना दृष्टिकोण और उनका एक अलग कद है। वे अपने लोगों की समझ रखते हैं। राहुल ने कहा, मुझे नहीं लगता इन दोनों उम्मीदवारों में से कोई भी गांधी परिवार का रिमोट द्वारा कंट्रोल होगा। दरअसल, राहुल गांधी उन सवालों का जवाब दे रहे थे, जिसमें कहा गया था कि नया कांग्रेस अध्यक्ष गांधी परिवार का रिमोट कंट्रोल होगा।सात सितंबर को कन्याकुमारी से शुरू हुई यह यात्रा अपने 31वें दिन में पहुंच गई है।

भारत जोड़ो यात्रा में इंदिरा लंकेश व कवित लंकेश भी शामिल हुईं

भारत जोड़ो यात्रा में इंदिरा लंकेश व कवित लंकेश भी शामिल हुईं

शनिवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कर्नाटक के तुमकुरू के मायासांद्रा से यात्रा की शुरुआत की। इस दौरान उनके साथ सैंकड़ों कार्यकर्ताओं का हुजुम दिखाई दिया। बता दें, इससे पहले शुक्रवार को भारत जोड़ो यात्रा में इंदिरा लंकेश व कवित लंकेश भी शामिल हुईं थीं। दो महिलाएं पत्रकार व सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश की मां व बहन हैं। गौरी की 2017 में हत्या कर दी गई थी।

भाजपा और आरएसएस बैकफुट पर आने को मजबूर

जयराम रमेश ने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा से नए राहुल गांधी का उदय हुआ है। उन्होंने कहा, ‘भाजपा और आरएसएस बैकफुट पर आने को मजबूर हो गए हैं। वे सब लोग परेशान हैं, क्योंकि भारत जोड़ी यात्रा से नए राहुल गांधी और नई कांग्रेस पार्टी उभरकर सामने आई है।’राहुल गांधी ने कोरोना से जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों के लिए शनिवार को उचित मुआवजे की मांग की और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछा कि आप उन्हें उनका हक क्यों नहीं दे रहे हैं। गांधी ने गुंडलुपेट में ऑक्सीजन की कमी के कारण जान गंवाने वाले कोरोना वायरस मरीजों के परिवार के सदस्यों से बातचीत की।

कोरोना के कारण जान गंवाने वालों के लिए मुआवजा की मांग

बातचीत का वीडियो साझा करते हुए पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने शनिवार को ट्वीट किया, ‘प्रधानमंत्री, प्रतीक्षा की सुनिए जिसने भाजपा सरकार के कोविड कुप्रबंधन के कारण अपने पिता को गंवा दिया।’ गांधी ने कहा कि उसने अपनी पढ़ाई और परिवार की जरूरतें पूरी करने के लिए सरकार से मदद की गुहार लगाई है।

Indian army health inspector bharti 2022 | भारतीय सेना स्वास्थ्य निरीक्षक भर्ती