नूपुर शर्मा पर FIR दिल्ली ट्रांसफर दर्ज पूरी होने तक गिरफ्तारी पर रोक

नूपुर शर्मा पर FIR को क्लब और ट्रांसफर करने की मांग

नूपुर शर्मा पर FIR दिल्ली ट्रांसफर दर्ज पूरी होने तक गिरफ्तारी पर रोक

भाजपा की पूर्व प्रवक्ता को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस जेबी पारदीवाला की स्पेशल बेंच ने नूपुर के खिलाफ सभी केस दिल्ली ट्रांसफर करने का आदेश दिया है। अदालत ने कहा है कि अब दिल्ली पुलिस ही सभी मामलों की जांच करेगी।

शर्मा  की गिरफ्तारी पर भी रोक लगा दी गई है। नूपुर ने जान का खतरा बताते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। इसमें कई राज्यों में उनके खिलाफ दर्ज की गई सभी FIR को क्लब और ट्रांसफर करने की मांग की गई थी, जिस पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। अदालत ने नूपुर से अपने खिलाफ दर्ज FIR रद्द कराने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट जाने की अनुमति भी दे दी है।

9 जुलाई को हुई सुनवाई में कोर्ट ने 10 अगस्त तक उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी। कोर्ट ने 8 राज्यों और केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया था। कोर्ट ने राज्यों को निर्देश दिया था कि नूपुर शर्मा के खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं की जानी चाहिए।

1 जुलाई को हुई सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने शर्मा को कड़ी फटकार लगाई थी। कोर्ट ने पैगंबर पर उनकी टिप्पणी के बाद हुई हिंसा के लिए “अकेले ही जिम्मेदार” ठहराया था।लोगों की भावनाएं भड़काई हैं और देशभर में जो कुछ भी हो रहा है, उसकी जिम्मेदार नूपुर ही हैं। उन्होंने देश की सुरक्षा के लिए खतरा पैदा किया है। कोर्ट ने कहा कि अपने बयान पर माफी भी उन्होंने शर्तों के साथ ही मांगी, वह भी तब, जब लोगों का गुस्सा भड़क चुका था। यह उनकी जिद और घमंड दिखाता है

खोज नए फनकार की सीजन -1 का आयोजन किया गया

नूपुर शर्मा की याचिका पर सुनवाई करने से इनकार

नूपुर शर्मा पर FIR दिल्ली ट्रांसफर दर्ज पूरी होने तक गिरफ्तारी पर रोक

 

न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति जेबी पारदीवाला की पीठ ने पैगंबर मोहम्मद खिलाफ टिप्पणी को लेकर कई राज्यों में दर्ज प्राथमिकियों को एक साथ मिलाने की शर्मा की याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया था. पिछली सुनवाई में शीर्ष अदालत ने पैगंबर के खिलाफ शर्मा की विवादित टिप्पणियों के लिए उन्हें आड़े हाथों लिया था और कहा था कि उनकी ‘बेलगाम जुबान’ ने ‘पूरे देश को आग में झोंक दिया और देश में जो भी हो रहा है, उसके लिए वह ‘अकेले’ जिम्मेदार हैं

सुप्रीम कोर्ट में शर्मा के मामले पर सुनवाई 3 बजे के बाद ही संभव हो सकेगी. दरअसल SC की लिस्ट के मुताबिक नूपुर शर्मा के मामले की सुनवाई करने जा रहे जज जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस पारदीवाला आज अलग-अलग बेंच के सदस्य हैं. दोनों जज अभी अलग-अलग कोर्ट रूम में बैठे हैं. ऐसे में उन्हें इस मामले को सुनने के लिए पहले से तय मामलों को निपटाकर विशेष रूप से एक साथ बैठना होगा. अभी जस्टिस सूर्यकांत वाली बेंच ने एक मामले को 3 बजे के आसपास सुनने को कहा है. ऐसे में उसके बाद ही नूपुर की याचिका पर सुनवाई हो सकेगी.

नूपुर शर्मा ने कोर्ट में पैगंबर मोहम्मद पर की गई उनकी ‘आपत्तिजनक टिप्पणी’ के संबंध में दर्ज अलग-अलग प्राथमिकियों को एक साथ जोड़ने और गिरफ्तारी से सुरक्षा की मांग की है.नेशनल डेस्क: पैगंबर मुहम्मद पर आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर भाजपा से निष्कासित हुई नूपुर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है।

नूपुर शर्मा सभी मामलों को दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग

नूपुर शर्मा पर FIR दिल्ली ट्रांसफर दर्ज पूरी होने तक गिरफ्तारी पर रोक

सुप्रीम कोर्ट ने नूपुर शर्मा के ऊपर दर्ज हुई सभी FIR को दिल्ली ट्रांसफर करने का निर्देश दिया है। कोर्ट ने साफ किया है कि अगर किसी दूसरे राज्य की पुलिस जहां FIR दर्ज हुई है वो जांच के दौरान अपना सुझाव देना चाहते हैं तो दे सकते हैं। नूपुर के वकील ने याचिका दायर कर सभी मामलों को दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग की थी।

सुप्रीम कोर्ट ने नूपुर शर्मा को कहा कि उनके खिलाफ दर्ज FIRs को रद्द करने की मांग को लेकर वो दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दाखिल करें। सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश से नूपुर के खिलाफ दर्ज सभी FIRs को दिल्ली पुलिस को सौंप दिया। दिल्ली पुलिस अब मामले की जांच करेगी।

नूपुर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट से गुरुवार को बड़ी राहत मिली है। उनके खिलाफ अलग-अलग राज्यों में दर्ज केस को शीर्ष अदालत ने दिल्ली ट्रांसफर कर दिया है। लंबे समय से नूपुर मांग कर रही थीं कि उनके खिलाफ दर्ज शिकायतों को दिल्ली ट्रांसफर कर दिया जाए, अब कोर्ट ने भी इसी दिशा में फैसला सुना दिया है।

Delhi Police Head Constable Vacancy 2022 | दिल्ली पुलिस हेड कॉन्स्टेबल पदों पर भर्ती