स्मार्टफोन मार्केट में Samsung का दबदबा बरकरार, ऐपल और शाओमी छूटे पीछे

Samsung का दबदबा बरकरार

Samsung

ग्लोबल स्मार्टफोन मार्केट में सैमसंग (Samsung) का दबदबा बरकरार है। कंपनी पिछले कई सालों से दुनिया की लीडिंग स्मार्टफोन मैन्युफैक्चरर बनी हुई है और इस साल की पहली तिमाही में भी कंपनी ने शानदार परफॉर्म किया। इंटरनेशन डेटा कॉर्पोरेशन (IDC) की रिपोर्ट के अनुसार Samsung साल 2022 की पहली तिमाही में 7.36 करोड़ यूनिट शिपमेंट और 23.4 पर्सेंट मार्केट शेयर के साथ नंबर 1 स्मार्टफोन मैन्युफैक्चरर रहा। हालांकि, कंपनी की 7.36 करोड़ यूनिट शिपमेंट से पता चलता है कि Samsung की इयर-ऑन-इयर ग्रोथ में 1.2 प्रतिशत की कमी आई है। यह आंकड़ा पिछले साल की पहली तिमाही में 7.45 करोड़ यूनिट था।

READ THIS:- महाराष्ट्र से उत्तराखंड तक मौसम का कहर, 7-8 राज्यों में बाढ़ से बेहाल लोग, उफान पर नदियां

Samsung के बाद दूसरे नंबर पर रहा ऐपल

Samsung

Samsung के बाद दूसरे पायदान पर ऐपल मौजूद रहा। साल 2022 की पहली तिमाही में कंपनी के आईफोन की शिपमेंट 5.66 करोड़ यूनिट रही और इसकी बदौलत कंपनी की बाजार में में 18 प्रतिशत की हिस्सेदारी रही। ऐपल की परफॉर्मेंस में पिछले साल की पहली तिमाही के मुकाबले इस बार शानदार रही। कंपनी की शिपमेंट में इस साल जनवरी से मार्च के बीच 2.2 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई है।

शाओमी का शिपमेंट 3.99 करोड़ यूनिट

शाओमी, ओप्पो और वीवो की बात करें तो ये तीनों कंपनियां इस साल की पहली तिमाही में क्रमशः तीसरे, चौथे और पांचवें स्थान पर रहीं। शाओमी का 3.99 करोड़ शिपमेंट के साथ 12.7 प्रतिशत बाजार पर कब्जा रहा। वहीं, ओप्पो को 8.7 पर्सेंट मार्केट शेयर के लिए 2.74 करोड़ यूनिट्स को शिप करना पड़ा। वीवो की जहां तक बात है, तो कंपनी 2.53 करोड़ यूनिट्स की शिपमेंट के साथ बाजार में 8.1 प्रतिशत हिस्सेदारी को अपने नाम कर सकी।

JOBS FOR YOU:- Uttar Pradesh Higher UPHESC Assistant Professor Exam Online Form 2022

इस साल घटी है चाइनीज कंपनियों की शिपमेंट

Samsung की तरह ओप्पो वीवो और शाओमी की शिपमेंट में इयर-ऑन-इयर गिरावट देखी गई है। इसमें वीवो की शिपमेंट में 27.7 प्रतिशत, ओप्पो की शिपमेंट में 26.8 प्रतिशत और शाओमी की इयर-ऑन-इयर शिपमेंट में 17.8 प्रतिशत की कमी आई है। आईडीसी की नबीला पोपल के अनुसार, कंपनियां स्मार्टफोन बनाने में इस्तेमाल होने वाले जरूरी कंपोनेंट्स की सप्लाई चेन की समस्या से जूझ रही हैं। उन्होंने यह भी कहा कि मौजूदा इकनॉमिक कंडिशन और ग्लोबल इंफ्लेशन के कारण भी यूजर्स के बीच स्मार्टफोन्स की डिमांड घटी है।