नए साल के सेलिब्रेशन में आगरा और मथुरा के होटल्स फुल हो चुके हैं, करीब 1 लाख टूरिस्ट आगरा के दीदार करने वाले हैं

नए साल के सेलिब्रेशन में आगरा और मथुरा के होटल्स फुल हो चुके हैं

मथुरा

नए साल के सेलिब्रेशन में आगरा और मथुरा के होटल्स फुल हो चुके हैं। नए साल पर करीब 1 लाख टूरिस्ट आगरा के दीदार करने वाले हैं। वहीं धार्मिक डेस्टिनेशन मथुरा-वृंदावन में 10 लाख टूरिस्ट के आने की उम्मीद है। ये बांके बिहारी के दर्शन करेंगे।टूरिस्ट नए डेस्टिनेशन पर इसलिए भी पहुंच रहे हैं, क्योंकि 2 साल से कोविड बाध्यता की वजह से सेलिब्रेशन नहीं हो पा रहा था। अगर आप भी यहां जाने की तैयारी कर रहे हैं, तो होटल बुकिंग ऑनलाइन जांचकर ही निकले।आगरा में 18 फाइव व थ्री स्टार होटल हैं। इन सभी में कुल मिलाकर 1800 कमरे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मां हीराबा शुक्रवार सुबह 9:26 बजे पंचतत्व में विलीन हो गईं

कई फेमस सिंगर को भी परफार्मेंस के बुलाया गया है

krishna

नए साल पर सभी होटल में रूम बुक हैं। नए टूरिस्ट मायूस होकर लौटना पड़ रहा है। होटल एंड टूरिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश चौहान ने बताया कि नए साल को लेकर टूरिस्ट का अच्छा फ्लो है।होटल्स में इन हाउस गेस्ट के लिए नए साल की पार्टी का इंतजाम किया गया है। इसके लिए दिल्ली, मुंबई के फेमस बैंड को बुलाया गया है। कई फेमस सिंगर को भी परफार्मेंस के बुलाया गया है। जेपी होटल के हरी सुकमार का कहना है कि इन हाउस गेस्ट के लिए न्यू सेलिब्रेशन का इंतजाम किया गया है।नए साल पर श्रद्धालु वृंदावन और ब्रज के अन्य धार्मिक स्थलों के दर्शन करने के लिए पहुंचेंगे।

होटल व्यवसाय नए साल के अवसर पर उभरने के आसार हैं

krishna 5

बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आगमन को देखते हुए होटल, गेस्ट हाउस संचालक भी पूरी तरह तैयार हैं। होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष महेंद्र प्रताप सिंह की माने तो ज्यादातर होटल 28 दिसंबर से बुक हैं तो कुछ 30 दिसंबर से लेकर 2 जनवरी तक फुल हैं। इनकी पहले से ही बुकिंग हो चुकी है। चीन सहित अलग-अलग देशों में फैल रहे कोरोना को देखते हुए होटल, गेस्ट हाउस संचालक भी एहतियात बरत रहे हैं। होटल एसोसिएशन के पदाधिकारी अमित जैन ने बताया कि दो साल बाद होटल व्यवसाय नए साल के अवसर पर उभरने के आसार हैं।

दिसंबर महीने में 2021 में 18 लाख श्रद्धालु आए थे

krishna 4

हालांकि उन्होंने कोरोना की बढ़ती दहशत के कारण आशंका जताई कि कहीं इस बार भी श्रद्धालुओं की संख्या कम न रह जाए। अमित जैन ने बताया कि सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन का होटल, गेस्ट हाउस में पालन कराया जाएगा। पर्यटन विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, दिसंबर महीने में 2021 में 18 लाख श्रद्धालु आए थे। इस वर्ष यह आंकड़ा 25 लाख तक पहुंचने का अनुमान है। कोरोना के पीक वर्ष 2020 में भी ब्रज पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की संख्या 91 लाख 26 हजार 481 रही। इनमें 23 हजार 481 विदेशी श्रद्धालु थे।

2021 में 1 करोड़ 30 लाख 46 हजार 242 श्रद्धालु वृंदावन पहुंचे थे

krishna 3

पर्यटन विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, 2021 में ब्रज पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की संख्या 2 करोड़ 96 लाख 3 हजार 451 रही। लेकिन, इस वर्ष विदेशी श्रद्धालु बहुत कम आए, यानी कुल 636 विदेशी श्रद्धालु ही ब्रज पहुंचे थे। इन श्रद्धालुओं में सबसे ज्यादा संख्या वृंदावन पहुंचने वाले भक्तों की रही। 2021 में 1 करोड़ 30 लाख 46 हजार 242 श्रद्धालु वृंदावन पहुंचे थे।मथुरा में ब्रज में भगवान के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ पहुंच रही है। लगातार श्रद्धालुओं की भीड़ के आने का सिलसिला जारी है। मथुरा वृंदावन में 28 दिसंबर से 2 जनवरी तक होटल और गेस्ट हाउस फुल हो गए हैं।

मथुरा वृंदावन में 500 से अधिक होटल और गेस्ट हाउस हैं

krishna 2

श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए पुलिस और प्रशासन भी व्यवस्थाओं को अंतिम रूप देने में लगा है। धार्मिक नगरी मथुरा वृंदावन में हर वर्ष करोड़ों श्रद्धालु भगवान के दर्शन के लिए पहुंचते हैं। तीर्थ स्थल होने की वजह से मथुरा वृंदावन में होटल और गेस्ट हाउस भी काफी संख्या में हैं। मथुरा वृंदावन होटल एसोसिएशन के अनुसार, मथुरा वृंदावन में 500 से अधिक होटल और गेस्ट हाउस हैं। इसके अलावा कई ट्रस्ट की तरफ से बनाए गए स्थान भी हैं, यह स्थान एसोसिएशन में नहीं हैं।

सरकार की गाइड लाइन का होटल और गेस्ट हाउस में पालन किया जाएगा

krishna 1

जानकारी के अनुसार, 2022 की विदाई और नए साल 2023 का स्वागत करने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु वृंदावन और ब्रज के अन्य धार्मिक स्थलों के दर्शन करने के लिए आने वाले हैं। होटल एसोसिएशन के एक सदस्य ने बताया कि 28 दिसंबर से लेकर 2 जनवरी तक सभी स्थान फुल हो गए हैं। चीन समेत अलग-अलग देशों में पांव पसार रहे कोरोना को देखते हुए होटल और गेस्ट हाउस संचालक भी एहतियात बरत रहे हैं। सरकार की गाइड लाइन का होटल और गेस्ट हाउस में पालन किया जाएगा।

चीनी वेरिएंट से ज्यादा अमेरिकी वेरिएंट से खतरा’:SGPGI के प्रो. एबल लॉरेंस ने कहा-चौंथी लहर आना तय; मगर मारक क्षमता कम रहेगी