दिल्ली उपचुनाव की जीत से केजरीवाल का प्लान

दिल्ली में ‘प्लान GH’ होगा मजबूत, समझें AAP की जीत के मायने

दिल्ली में 'प्लान GH' होगा मजबूत, समझें AAP की जीत के मायनेदीपिका पादुकोण पेरिस में विज्ञापन में दिखीं

दिल्ली में अरविंद केजरीवाल का जलवा कायम है। राजेंद्र नगर सीट पर उपचुनाव में आम आदमी पार्टी (आप) के उम्मीदवार दुर्गेश पाठक ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राजेश भाटिया को 11500 वोटों से हरा दिया है। उपचुनाव भले ही महज एक सीट पर हुआ है, लेकिन इस ‘छोटे चुनाव’ के कई बड़े सियासी मायने हैं।अरविंद केजरीवाल सरकार जहां इसे अपने कामकाज पर मुहर के रूप में पेश करेगी तो भाजपा और कांग्रेस को एक बार फिर आत्ममंथन में जुटना होगा।

दिल्ली में 'प्लान GH' होगा मजबूत, समझें AAP की जीत के मायने

एक दशक पहले अस्तित्व में आई पार्टी दिल्ली और पंजाब में सरकार बनाने के बाद देशव्यापी विस्तार प्लान पर काम कर रही है। फिलहाल उसका फोकस ‘प्लान GH’ (गुजरात-हिमाचल) पर है। राजेंद्र नगर सीट पर जीत के बाद पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल दोनों राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनाव पर पर ध्यान केंद्रित कर पाएंगे।

वह इस बात को लेकर निश्चिंत हो सकते हैं कि राजधानी में फिलहाल भाजपा-कांग्रेस के पास उनकी काट नहीं है। इस जीत से केजरीवाल ने उन आलोचको को जवाब दे दिया है, जो उन पर दिल्ली से अधिक दूसरे राज्यों में पर ध्यान देने का आरोप लगा रहे हैं।

‘दिल्ली मॉडल’ को प्रचारित करने का मौका

गुजरात हो या हिमाचल, ‘आप’ दिल्ली के अपने शासन मॉडल के आधार पर एक मौका मांग रही है। दिल्ली उपचुनाव में मिली जीत को पार्टी इस मॉडल पर एक बार फिर जनता के मुहर के रूप में प्रचारित करेगी। यदि यहां पार्टी को शिकस्त मिलती तो भाजपा को केजरीवाल के प्रचार अभियान को पंक्चर करने का हथियार मिल जाता। दिल्ली और पंजाब में सरकार बनाने के बाद देशव्यापी विस्तार प्लान पर काम कर रही है। फिलहाल उसका फोकस ‘प्लान GH’ (गुजरात-हिमाचल) पर है। राजेंद्र नगर सीट पर जीत के बाद पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल दोनों राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनाव पर पर ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। वह इस बात को लेकर निश्चिंत हो सकते हैं कि राजधानी में फिलहाल भाजपा-कांग्रेस के पास उनकी काट नहीं है। इस जीत से केजरीवाल ने उन आलोचको को जवाब दे दिया है

दिल्ली में कई मुद्दों पर नाराजगी पर केजरीवाल पर भरोसा कायम

दिल्ली में कई मुद्दों पर नाराजगी पर केजरीवाल पर भरोसा कायम

राजेंद्र नगर उपचुनाव ने यह भी साफ कर दिया है कि फिलहाल अरविंद केजरीवाल पर लोगों का भरोसा कायम है।जनता को भरोसा दिया था कि बचे हुए कामों को भी पूरा किया जाएगा। पानी की समस्या को उनकी सरकार दूर करेगी। राजेंद्र नगर के अधिकतर  पानी और शराब जैसे कई मुद्दों पर भले ही जनता में नाराजगी हो, लेकिन केजरीवाल के वादों पर उन्हें विश्वास है।केजरीवाल ने राजेंद्र नगर में प्रचार के दौरान सरकार की कमियों को स्वीकार करते हुए वोटर्स ने उनके वादे में विश्वास जाहिर किया।

दिल्ली में ‘कमल’ के लिए और करो मेहनत का संदेश

भाजपा को उपचुनाव में करीब 40 फीसदी वोट मिले हैं, लेकिन पार्टी जीत से काफी दूर रह गई। ऐसे में उसके लिए संदेश साफ है कि दिल्ली का दिल दोबारा जीतने के लिए और अधिक मेहनत करनी होगी।भाजपा नेता कहते रहे हैं कि केजरीवाल सरकार के खिलाफ जनता में नाराजगी है तो सवाल उठता है कि वह इस नाराजगी को भुनाने में क्यों कामयाब नहीं हो रहे हैं? पार्टी को दिल्ली में केजरीवाल के सामने एक मजबूत चेहरा पेश करना होगा।

अरविंद केजरीवाल पर लोगों का भरोसा कायम है। पानी और शराब जैसे कई मुद्दों पर भले ही जनता में नाराजगी हो, लेकिन केजरीवाल के वादों पर उन्हें विश्वास है। केजरीवाल ने राजेंद्र नगर में प्रचार के दौरान सरकार की कमियों को स्वीकार करते हुए जनता को भरोसा दिया था कि बचे हुए कामों को भी पूरा किया जाएगा। पानी की समस्या को उनकी सरकार दूर करेगी। राजेंद्र नगर के अधिकतर वोटर्स ने उनके वादे में विश्वास जाहिर किया।

Indian Navy Agniveer SSR Vacancy 2022 | भारतीय नौसेना अग्निवीर भर्ती 2800 पदों पे अधिसूचना