नक्सलियों के नापाक मंसूबों पर फिरा पानी

नक्सलियों के नापाक मंसूबों पर जवानों एक बार फिर फेल

छत्तीसगढ़ के माओवाद प्रभावित सुकमा जिले में फोर्स के जवानों ने नक्सलियों के नापाक मंसूबों को नाकाम कर दिया। सुरक्षा बलों को निशाना बनाने फुलमपाड़ इलाके में नक्सलियों ने 5 आईईडी (Improvised Explosive Device) प्लांट किया था। नक्सलियों की कायराना करतूत पर जवानों ने पानी फेर दिया। 201 कोबरा बटालियन के जवानों ने आईईडी को देखा, जिसे बम निरोधक दस्ते की टीम ने विस्फोट कर नष्ट कर दिया। सभी आईईडी काफी शक्तिशाली थे, अगर जवान इसकी चपेट में आते तो बड़ा नुकसान हो जाता। मामला चिंतलनार थाना क्षेत्र का है।.  जुलाई में थिएटर्स और ओटीटी पर रिलीज होंगी ये 15 से अधिक फिल्में

नक्सलियों ने आईडी लगाकर बड़ी घटना को अंजाम देने की साजिश रची थी।जिसे सर्चिंग टीम ने विफल कर दिया है। कोबरा 206 वाहिनी के जवानों ने समय पर आईईडी बम को बरामद कर एक बड़े हादसे को टाल दिया है। दरअसल, कई बार जवानों के अलावा आमजन और बेजुबान जानवर भी आईडी की चपेट में आ जाते हैं।

नक्सलियों के नापाक मंसूबों पर जवानों एक बार फिर फेल

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार जिले के फुलमपाड़ गांव में आईईडी बरामद किया गया है। 201 कोबरा बटालियन की टीम सर्चिंग पर रवाना हुई थी। माओवादियों द्वारा जवानों को नुकसान पहुंचाने और बड़ी घटना को अंजाम देने की साजिश रची गई थी। सर्चिंग के दौरान जवानों ने 5 आईईडी बम बरामद कर माओवादियों के नापाक इरादों को नाकाम कर दिया। जवानों ने मौके से वॉकी टॉकी सेट, इलेक्ट्रिक डेटोनेटर, कैमेरा फ्लैश, 12 वोल्ट बैटरी इलेक्ट्रिक वायर, माओवादी बैनर, माओवादी साहित्य, विस्फोटक सहित दैनिक उपयोग का सामान बरामद किया है।

नक्सली कैंप पर मिले विस्फोटक सामान, पांच आईईडी से ये पता चलता है कि नक्सली किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की साजिश रच रहे थे. क्योंकि नक्सली लगातार सुरक्षाबल के जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए आईईडी का इस्तेमाल करते आ रहे हैं. कई बार सुरक्षाबल के जवानों को आईईडी से काफी नुकसान भी हुआ है

नक्सलियों ने आईडी लगाकर बड़ी घटना को अंजाम देने की साजिश रची थी।जिसे सर्चिंग टीम( searching team) ने विफल कर दिया है। कोबरा 206 वाहिनी के जवानों ने समय पर आईईडी बम को बरामद कर एक बड़े हादसे ( big accident)को टाल दिया है। दरअसल, कई बार जवानों के अलावा आमजन और बेजुबान जानवर भी आईडी की चपेट में आ जाते हैं। हालांकि आईडी बम( id bomb)को बीडीएस की टीम ने को मौके पर ही विस्फोट कर निष्क्रिय कर दिया।

नक्सलियों के द्वारा आर्थिक नाकेबंदी और दमन विरोधी

नक्सलियों के द्वारा आर्थिक नाकेबंदी और दमन विरोधी

बता दें कि बस्तर में नक्सलियों के द्वारा आर्थिक नाकेबंदी और दमन विरोधी सप्ताह मनाया जा रहा है। जिसे देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है। दमन विरोधी सप्ताह को देखते हुए विशाखापट्टनम-किरंदुल पैसेंजर को एक बार बार फिर रोक दिया गया है। एक सप्ताह तक ट्रेन किरंदुल नहीं जाएगी। ट्रेनों का अंतिम स्टॉपेज जगदलपुर होगा। यहीं से ट्रेन वापस लौटेगी भी। विशाखापट्टनम या ओडिशा जाने वाले यात्रियों को जगदलपुर से ही ट्रेन में बैठना होगा। साल 2022 में नक्सल दहशत और दूसरे कारणों से बस्तर की पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन करीब 42 दिन से ज्यादा बंद रहा है।

नक्सलियों द्वारा जवानों को नुकसान पहुंचाने के मकसद से लगाए गए पांच आईईडी बम को बरामद किया. मौके पर सभी आईईडी को नष्ट कर दिया गया. इसके अलावा जवानों ने नक्सलियों के कैंप से मोटोरोला का वॉकी टॉकी सेट, इलेक्ट्रिक डेटोनेटर, कैमरा फ्लैश, 12 वोल्ट की बैटरी, इलेक्ट्रिक वायर, नक्सली बैनर, नक्सली साहित्य और अन्य विस्फोटक सामग्री के साथ ही दैनिक उपयोग की सामग्री भी बरामद की

नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना मुखबिर से जवानों को मिली थी. जिसके बाद कोबरा बटालियन और डीआरजी की संयुक्त टीम को सर्चिंग ऑपरेशन के लिए क्षेत्र में रवाना कर दिया गया था. जहां फुलमपाड़ क्षेत्र में अस्थायी कैंप लगाकर बैठे नक्सलियों ने दूर से जवानों को अपनी ओर आता देख कैम्प के आसपास IED बम लगाया और तबाही का सामान छोड़कर वह घने जंगलों में भाग गए.

नक्सलियों के नापाक मंसूबे पर पानी फेर दिया. सुरक्षाबलों की टीम जब सर्चिंग पर निकली को एलमागुंडा और मीनपा के बीच जंगल से 5 किलो का आईईडी बरामद किया. जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए नक्सलियों ने यह आईडी लगाकर बड़ी घटना को अंजाम देने की साजिश रची थी. जिसे सर्चिंग टीम ने विफल कर दिया है.

 

CMHO Rajnandgaon Recruitment 2022: For ANM, Nursing Officer, OT Technician, Staff Nurse Posts