विधानसभा के बाहर भिड़े शिंदे-उद्धव गुट के विधायक विपक्ष ने लगाए ’50 खोके के नारे

विधानसभा पर विपक्ष ने सत्तारूढ़ पार्टी के खिलाफ नारे लगाए

विधानसभा के बाहर भिड़े शिंदे-उद्धव गुट के विधायक विपक्ष ने लगाए '50 खोके के नारे

विधानसभा में मानसून सत्र का आज पांचवां दिन है। सत्र की शुरुआत सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच हंगामे से हुई। उद्धव गुट और शिंदे गुट के विधायक आपस में भिड़ गए। दोनों गुटों ने एक-दूसरे के साथ धक्का-मुक्की भी की। विधानसभा की सीढ़ियों पर विपक्ष ने सत्तारूढ़ पार्टी के खिलाफ नारे लगाए।

दूध पीने और इसे पचाने में लग गए 10 हजार साल ऐसा जीन खुद को हजारों साल से बदल रहा

उद्धव गुट के विधायकों ने शिंदे गुट के लिए ’50 खोके विधानसभा एकदम ओके’ का नारा लगाया। इस नारे की आड़ में शिंदे गुट पर 50 करोड़ लेकर बिक जाने का आरोप लगाया गया। महंगाई और किसानों के मुद्दे उठाने और सरकार से जवाब मांगने के लिए NCP विधायक गाजर लेकर पहुंचे। गाजर को लेकर भी दोनों गुटों के बीच छीनाझपटी शुरू हो गई। दोनों दलों के वरिष्ठ नेताओं ने आगे आकर विधायकों को शांत कराया। इसके बाद ही सदन की कार्रवाई शुरू हो पाई।

महाराष्ट्र विधानसभा का मानसून सत्र के बीच बुधवार को विपक्षी दलों ने विधान भवन की सीढ़ियों पर एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। विपक्ष के नेता अजीत पवार के नेतृत्व में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP), कांग्रेस और अन्य सहयोगी दलों के नेताओं ने किसानों के मुद्दों पर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

ठाकरे गुट के विधायकों ने पचास खोके (50 करोड़) के नारे लगाकर उन्हें चिढ़ाया

विधानसभा के बाहर भिड़े शिंदे-उद्धव गुट के विधायक विपक्ष ने लगाए '50 खोके के नारे

विधायक आदित्य ठाकरे सहित उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना के कुछ सदस्यों ने भी नारेबाजी में हिस्सा लिया।महाराष्ट्र विधानसभा का मानसून सत्रबुधवार से शुरू हुआ। इस दौरान विपक्षी दलों ने विधान भवन की सीढ़ियों पर एकनाथ शिंदेके नेतृत्व वाली राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। महाराष्ट्र विधान भवन में जब मुख्‍यमंत्री एकनाथ शिंदे समेत गुट के विधायक द‍िखे तब उद्धव ठाकरे गुट के विधायकों ने पचास खोके (50 करोड़) के नारे लगाकर उन्हें चिढ़ाया।            IHBAS Recruitment 2022 – 16 को ऑर्डिनेटर, रिसर्च असिस्टेंट, डाटा एंट्री ऑपरेटर पदों के लिए आवेदन करें

विपक्षी सदस्यों को तख्तियां पकड़े हुए देखा गया, जिन पर शिंदे-फडणवीस नीत सरकार की वैधता पर सवाल उठाए गए थे। दक्षिण मुंबई में राज्य विधान सभा परिसर की सीढ़ियों पर प्रदर्शन कर रहे विपक्षी दल के एक नेता ने कहा, ‘‘इस सरकार ने उन किसानों की दुर्दशा को नजरअंदाज कर दिया है, जिन्होंने अधिक बारिश के कारण अपनी फसल खो दी थी।

सरकार की वैधता भी संदेह के घेरे में है जिस पर कानूनी रूप से बहस की जा रही है।विपक्ष के नेता अजीत पवार के नेतृत्व में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा), कांग्रेस और अन्य सहयोगी दलों के नेताओं ने किसानों के मुद्दों पर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। विधायक आदित्य ठाकरे सहित उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना के कुछ सदस्यों ने भी नारेबाजी में हिस्सा लिया।

संतोष बांगर, श्यामसुंदर शिंदे ने भी शिंदे-बीजेपी के पक्ष में मतदान किया

विधानसभा के बाहर भिड़े शिंदे-उद्धव गुट के विधायक विपक्ष ने लगाए '50 खोके के नारे

एक गुट में उद्धव ठाकरे का है तो दूसरा गुट एकनाथ शिंदे का. वर्तमान में राज्य में शिवसेना के शिंदे गुट और भारतीय जनता पार्टी की सरकार है. इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मराठी में मातोश्री पर आए शिवसैनिकों को संबोधित किया है. उन्होंने कहा कि जनता की भावना हमारे साथ है. जनता चुनाव की राह देख रही है

चुनाव आएंगे और हम इन गद्दारों को सबक सिखाएंगे, लेकिन उनमें चुनाव जल्दी करने की हिम्मत है, ऐसा मुझे लगता नहीं है. फिर कम से कम इसी बहाने जनता की भावना हमसे जुड़नी चाहिए, इसलिए फिर से मैं आपसे हाथ जोड़कर विनती करता हूं कि आज आपने शुरुआत की है ऐसा मैं मानता हूं.उद्धव ठाकरे आगे बढ़ो हम तुम्हारे साथ हैं.

संतोष बांगर शिंदे गुट के समर्थकों से हाथ जोड़ कर वापस आने के लिए गिड़गिड़ा रहे थे, वे तो वापस नहीं आए, ये उनके साथ चले गए. इस बीच उद्धव ठाकरे के कैंप से निकल कर एकनाथ शिंदे गुट और बीजेपी के पक्ष में मतदान करने वाले एक और विधायक हैं. श्यामसुंदर शिंदे ने भी शिंदे-बीजेपी के विश्वास मत के पक्ष में मतदान किया है.

उद्धव ठाकरे का आखिर तक साथ देने का वादा कर रहे थे और कह रहे थे उद्धव ठाकरे आगे बढ़ो हम तुम्हारे साथ हैं. संतोष बांगर शिंदे गुट के समर्थकों से हाथ जोड़ कर वापस आने के लिए गिड़गिड़ा रहे थे, विधानसभा वे तो वापस नहीं आए, ये उनके साथ चले गए. इस बीच उद्धव ठाकरे के कैंप से निकल कर एकनाथ शिंदे गुट और बीजेपी के पक्ष में मतदान करने वाले एक और विधायक हैं. श्यामसुंदर शिंदे ने भी शिंदे-बीजेपी के विश्वास मत के पक्ष में मतदान किया है.