हार्ट अटैक के कई कारण कम नींद लेने पर हो सकता है हार्ट अटैक

कम नींद लेने पर हो सकता है हार्ट अटैक

कम नींद लेने पर हो सकता है हार्ट अटैक

 हार्ट अटैक के कई ऐसे मामले देखने को मिले हैं जिससे मेडिकल साइंस के जानकार भी हैरत में हैं। कई नौजवान और स्वस्थ लोग भी हार्ट अटैक के ऐसे शिकार हुए कि लोगों को इसकी उम्मीद नहीं थी।इसी कड़ी में अमेरिका स्थित अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन ने एक रिपोर्ट में कहा है कि कम नींद या इसकी कमी अब आधिकारिक तौर पर हृदय और उससे जुड़े रोगों के लिए एक जोखिम कारक है।

हार्ट अटैके के मामलों की संख्या रोजाना बढ़ती ही जा रही है. वहीं अब तो नौजवान और स्वस्थ लोग भी इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं. वैसे तो हार्ट अटैक कई कारणों से हो सकता है इसके पीछे कोई एक वजह नहीं हो सकती है जैसे की गलत खानपान और गलत लाइफस्टाइल. लेकिन क्या आपको पता है

हार्ट अटैक कम नींद या रात में जागने की वजह से भी हो सकता है. जी हां यह सच है कि अगर आप अपनी पूरी नींद नहीं लेते हैं तो यह हार्ट अटैक आने का एक कारण बन सकता है. ऐसे में हम यहां आपको बताएंगे कि एक व्यक्ति को एक दिन में कितने घंटे की नींद लेनी चाहिए? और नींद ना लेने से किस तरह से आपको हार्ट से जुड़ी समस्या हो सकती है

कम नींद लेना हार्ट अटैक को दावत देने जैसा

दरअसल, अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन ने नींद से जोड़ते हुए ऐसे सात कारकों का उल्लेख किया है जिनमें शारीरिक गतिविधि, निकोटीन जोखिम, आहार, वजन, रक्त ग्लूकोज, कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप शामिल हैं।यह ऐसे कारक हैं जो हृदय रोग के लिए किसी भी व्यक्ति का मूल्यांकन करते हैं। इसी कड़ी में बताया गया कि कम नींद लेना हार्ट अटैक को भी एक प्रकार से दावत देने जैसा है।

हार्ट अटैके के मामलों की संख्या रोजाना बढ़ती ही जा रही है. वहीं अब तो नौजवान और स्वस्थ लोग भी इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं. वैसे तो हार्ट अटैक कई कारणों से हो सकता है इसके पीछे कोई एक वजह नहीं हो सकती है जैसे की गलत खानपान और गलत लाइफस्टाइल. लेकिन क्या आपको पता है

हार्ट अटैक कम नींद या रात में जागने की वजह से भी हो सकता है. जी हां यह सच है कि अगर आप अपनी पूरी नींद नहीं लेते हैं तो यह हार्ट अटैक आने का एक कारण बन सकता है.

यह भी देखें:- Yamaha मोटर कंपनी लिमिटेड ने पूरे किए 67 साल

छह घंटे से कम सोना बेहद खतरनाक

छह घंटे से कम सोना बेहद खतरनाक

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन की अधिकारिक वेबसाइट पर इस रिपोर्ट के बारे में विस्तृत तरीके से बताया है। शोध से पता चला है कि जो लोग रात में छह घंटे से कम सोते हैं, उनमें मोटापा, उच्च रक्तचाप, टाइप 2 मधुमेह और खराब मानसिक और संज्ञानात्मक स्वास्थ्य का खतरा बढ़ जाता है।एसोसिएशन के अध्यक्ष डोनाल्ड एम लॉयड जोन्स ने कहा कि नींद समग्र स्वास्थ्य को प्रभावित करती है और स्वस्थ नींद पैटर्न वाले लोग वजन रक्तचाप या जैसी चीजों से बच जाते हैं।

वहीं अपनी एक रिपोर्ट में इंडियन एक्सप्रेस ने मुंबई के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ ब्रायन पिंटो के हवाले से बताया कि ने कहा कि दशकों से मैंने देखा है कि जो लोग दिन में कम से कम सात घंटे नहीं सोते हैं, उन्हें दिल का दौरा पड़ने का खतरा अधिक होता है। मरीजों को उनकी स्टॉक सलाह सात घंटे से अधिक लेकिन दिन में आठ घंटे से कम सोना है।

ध्वनि प्रदूषण भी जल्द इसी सूची में शामिल होगा!

ध्वनि प्रदूषण भी जल्द इसी सूची में शामिल होगा!

चौंकाने वाली बात यह भी है कि डॉ पिंटो ने कहा कि जिस तरह नींद को हृदय स्वास्थ्य के लिए एक महत्वपूर्ण कारक के रूप में मान्यता दी गई है, ध्वनि प्रदूषण को भी जल्द ही इसी सूची में शामिल किया जाएगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत सहित अधिकांश देशों में हृदय रोग मृत्यु का नंबर एक कारण है।

यह भी देखें:- IDBI Bank Assistant Manager Grade A & Executive Recruitment Admit Card 2022

कुछ साल पहले ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज अध्ययन ने अनुमान लगाया था कि भारत में प्रति 1,00,000 जनसंख्या पर हृदय रोगों ने 272 लोगों की जान ले ली है जबकि वैश्विक औसत प्रति 1,00,000 जनसंख्या पर 235 है।