Homeव्यापार की खबरें30-31 जनवरी को होने वाली दो दिवसीय देशव्यापी बैंक हड़ताल स्थगित कर...

30-31 जनवरी को होने वाली दो दिवसीय देशव्यापी बैंक हड़ताल स्थगित कर दी है

इस हड़ताल के कारण लगातार 4 दिन यानी 28 से 31 जनवरी तक बैंक बंद रहेंगे

 जनवरी

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू) ने मुंबई में हुई सुलह बैठक में बनी सहमति के बाद 30-31 जनवरी को होने वाली दो दिवसीय देशव्यापी बैंक हड़ताल स्थगित कर दी है। इससे पहले कई बैंक यूनियंस ने 30-31 जनवरी को हड़ताल की घोषणा की थी। इस हड़ताल के कारण लगातार 4 दिन यानी 28 से 31 जनवरी तक बैंक बंद रहेंगे। 30 और 31 जनवरी को बैंक कर्मचारी हड़ताल पर जाने वाले थे। वहीं 28 जनवरी को महीने का चौथा शनिवार और 29 जनवरी को रविवार होने की वजह से बैंक बंद रहेंगे।

8 साल पहले कानून रद्द, ममता सरकार केस चलाती रही:कार्टून शेयर किया तो पीटा, जेल में डाला; 11 साल बाद आरोपों से बरी

वेंकटचलम ने बताया था कि बैंक कर्मचारियों की 5 मांगें हैं

जनवरी

AIBEA के महासचिव सी एच वेंकटचलम ने बताया था कि बैंक कर्मचारियों की 5 मांगें हैं। पहली बैंकिंग वर्किंग कल्चर में सुधार, बैंकिंग पेंशन को अपडेट किया जाए, राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (NPS) को खत्म किया जाए, वेतन को रिवाइज किया जाए और सभी काडर में भर्तियां की जाए। अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ के महासचिव सीएच वेंकटचलम के अनुसार, भारतीय बैंक संघ (IBA) 31 जनवरी को यूनियनों के साथ बैठक करने के लिए सहमत हो गया।

पुरानी पेंशन योजना की बहाली पर 31 जनवरी को चर्चा की जाएगी

जनवरी

शुक्रवार को हुई सुलह बैठक में निर्णय लिया गया कि तीन सामान्य मुद्दों पांच दिवसीय बैंकिंग, पेंशन का अपडेशन और पुरानी पेंशन योजना की बहाली पर 31 जनवरी को चर्चा की जाएगी। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू) ने मुंबई में हुई सुलह बैठक में बनी सहमति के बाद 30-31 को होने वाली दो दिवसीय देशव्यापी बैंक हड़ताल स्थगित कर दी है। बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) के अखिल भारतीय महासचिव सी. एच. वेंकटचलम ने यह जानकारी दी।

31 जनवरी को यूनियनों के साथ बैठक करने पर सहमत हो गया है

जनवरी

वेंकटचलम के अनुसार भारतीय बैंक संघ (आईबीए) यूनियनों के साथ बैठक करने पर सहमत हो गया है। शुक्रवार को हुई सुलह बैठक में निर्णय लिया गया कि तीन सामान्य मुद्दों पांच दिवसीय बैंकिंग, पेंशन का अपडेशन और पुरानी पेंशन योजना की बहाली पर 31 जनवरी को चर्चा की जाएगी। अन्य मुद्दों पर संबंधित अधिकारियों और श्रमिक संघों के साथ अलग से चर्चा की जाएगी। गौरतलब है कि कई बैंक यूनियनों समूह यूएफबीयू ने पहले अपनी विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर जाने का फैसला किया था।

संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी

जनवरी

यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है। इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है। ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी। चेन्नई (आईएएनएस)| यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू) ने मुंबई में हुई सुलह बैठक में बनी सहमति के बाद 30-31 जनवरी को होने वाली दो दिवसीय देशव्यापी बैंक हड़ताल स्थगित कर दी है। बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) के अखिल भारतीय महासचिव सी. एच. वेंकटचलम ने यह जानकारी दी।

मुद्दों पर संबंधित अधिकारियों और श्रमिक संघों के साथ अलग से चर्चा की जाएगी

जनवरी

वेंकटचलम के अनुसार भारतीय बैंक संघ (आईबीए) 31 जनवरी को यूनियनों के साथ बैठक करने पर सहमत हो गया है। शुक्रवार को हुई सुलह बैठक में निर्णय लिया गया कि तीन सामान्य मुद्दों पांच दिवसीय बैंकिंग, पेंशन का अपडेशन और पुरानी पेंशन योजना की बहाली पर 31 जनवरी को चर्चा की जाएगी। अन्य मुद्दों पर संबंधित अधिकारियों और श्रमिक संघों के साथ अलग से चर्चा की जाएगी। गौरतलब है कि कई बैंक यूनियनों समूह यूएफबीयू ने पहले अपनी विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर जाने का फैसला किया था।

अपनी विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर जाने का फैसला किया था

जनवरी

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (UFBU) ने मुंबई में हुई सुलह बैठक में बनी सहमति के बाद 30-31 जनवरी को होने वाली दो दिवसीय देशव्यापी बैंक हड़ताल स्थगित कर दी है. बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) के अखिल भारतीय महासचिव सी. एच. वेंकटचलम ने यह जानकारी दी. वेंकटचलम के अनुसार भारतीय बैंक संघ (आईबीए) 31 जनवरी को यूनियनों के साथ बैठक करने पर सहमत हो गया है। शुक्रवार को हुई सुलह बैठक में निर्णय लिया गया कि तीन सामान्य मुद्दों पांच दिवसीय बैंकिंग, पेंशन का अपडेशन और पुरानी पेंशन योजना की बहाली पर 31 जनवरी को चर्चा की जाएगी।

अन्य मुद्दों पर संबंधित अधिकारियों और श्रमिक संघों के साथ अलग से चर्चा की जाएगी। गौरतलब है कि कई बैंक यूनियनों समूह यूएफबीयू ने पहले अपनी विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर जाने का फैसला किया था। साउथ कोरिया और जापान में कोरोना से हालात लगातार खराब हो रहे हैं

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments