BJP पर भारी दीदी का खेला बंगाल में TMC से भिड़ना भी मुश्किल

BJP पर भारी दीदी का खेला बंगाल

BJP  नेता मिथुन चक्रवर्ती ने कोलकाता में कही थी। इसके बाद से कयास लगाए जाने लगे कि क्या BJP बंगाल में भी महाराष्ट्र जैसा खेला करने की तैयारी में है।38 विधायकों के साथ हमारे अच्छे रिश्ते हैं…21 तो हमारे सीधे संपर्क में हैं. म्यूजिक लॉन्च है..फिल्म की धमाकेदार रिलीज तो बाकी है।

मिथुन के बयान के बाद बंगाल में BJP की जमीनी हकीकत जानी तो सच्चाई कुछ और ही निकली। 2021 के विधानसभा चुनाव में बंगाल की 294 विधानसभा सीटों में से BJP ने 77 पर जीत दर्ज की थी।

जन्माष्टमी 2 दिन मनाई जाएगी, व्रत रखना किस दिन रहेगा उत्तम, जानें

BJP के विधायकों की संख्या 75 हो गई। अब यह संख्या 69 पर आ चुकी है। 6 विधायक BJP छोड़कर TMC में जा चुके हैं। BJP के 18 में से 2 सांसद भी TMC में शामिल हो चुके हैं। बंगाल के कद्दावर नेता शुभेंदु अधिकारी के बयान से लगाया जा सकता है। जब शुभेंदु से मिथुन के बयान के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘मुझे इस बात की कोई जानकारी नहीं है।

बंगाल की राजनीति में गहरी पकड़ रखने वाले स्निग्धेंदु भट्‌टाचार्य कहते हैं कि, ‘ED के कारण BJP के विधायक अपनी ही पार्टी से डरे हुए हैं। कई TMC में शामिल होना चाहते हैं, लेकिन वे ये बात जानते हैं कि पार्टी छोड़ते ही ED का डंडा उनके ऊपर चलेगा। इस कारण वे पार्टी छोड़ नहीं पा रहे।’

BJP पर भारी दीदी का खेला बंगाल

6 विधायकों के पार्टी छोड़ने पर BJP प्रवक्ता शमिक भट्‌टाचार्य कहते हैं, ‘कुछ ने डर के कारण पार्टी छोड़ी। कुछ ने परिवार को बचाने के लिए ऐसा किया। कुछ को सत्तापक्ष का साथ ही रास आ रहा था इसलिए छोड़ गए।’ED की कार्रवाई पर कहते हैं, ‘ऐसा कुछ नहीं है कि जो पार्टी छोड़ रहा है उस पर कार्रवाई की जा रही है। TMC ने BJP से गए विधायक को लोकलेखा समिति का अध्यक्ष बना दिया, जबकि यह पद विपक्ष के नेता को मिलता है।’

पश्चिम बंगाल शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में फंसे पार्थ चटर्जी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. एक तरफ तो उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी के घर से करोड़ों रुपये और भारी मात्रा में सोने के गहने बरामद हुए हैं तो वहीं अब टीएमसी के महासचिव कुणाल घोष ने साफ कह दिया है कि पार्थ चटर्जी को तुरंत मंत्रालय और पार्टी के सभी पदों से हटाया जाना चाहिए और उन्हें पार्टी से निष्कासित किया जाना चाहिए. कुणाल घोष ने कहा है कि अगर इस बयान को गलत माना जाता है

Government of India,Ministry of Textiles,Office of the Development Commissioner for Handlooms

टीएमसी महासचिव ने कहा कि “पार्थ चटर्जी को मंत्रालय और पार्टी के सभी पदों से तुरंत हटाया जाना चाहिए और उन्हें निष्कासित किया जाना चाहिए. अगर इस बयान को गलत माना जाता है, तो पार्टी को मुझे सभी पदों से हटाने का पूरा अधिकार है.

BJP पर भारी दीदी का खेला बंगाल

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी कहा है कि अगर कोई दोषी पाया जाता है तो वह मंत्री होते हुए भी उस व्यक्ति को नहीं बख्शेंगी. बता दें कि ममता बनर्जी सरकार में ताकतवर मंत्री और तृणमूल कांग्रेस के महासचिव रहे चटर्जी को शनिवार को एसएससी घोटाले में गिरफ्तार किया गया था.

उच्च. न्यायालय के निर्देशानुसार सीबीआई पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग (एसएससी) की सिफारिशों पर सरकार द्वारा प्रायोजित और सहायता प्राप्त स्कूलों में ग्रुप-सी और डी स्टाफ के साथ-साथ शिक्षकों की भर्ती में कथित अनियमितताओं की जांच कर रही है और ईडी इस घोटाले में मनी ट्रेल पर नजर रख रही है. जब ये घोटाला हुआ था तब चटर्जी शिक्षा मंत्री थे

तृणमूल कांग्रेस सांसद प्रतिमा मंडल ने बुधवार को लोकसभा में दावा किया कि देश में नफरत और हिंसा का माहौल बढ़ाया जा रहा है। इसे सत्तापक्ष की शह मिल रही है। इस पर सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने पलटवार करते हुए कहा कि तृणमूल सांसद ने सदन में झूठ बोला है। गुमराह किया है, क्योंकि कानून-व्यवस्था राज्यों का विषय है। इस मामले में पश्चिम बंगाल सरकार पूरी तरह विफल रही है।

महंगाई जैसे मुद्दों से देश का ध्यान भटकाने के लिए नफरत का माहौल बढ़ाया जा रहा है। अगर कदम उठाए नहीं गए, तो स्थानीय स्तर पर सुरक्षा चुनौती पैदा हो सकती है। सरकार नींद से जागे और उचित कदम उठाए।