Launch of national campaign
Launch of national campaign:भुवनेश्वर के निकट हरिदमदा गांव में ब्रह्माकुमारी दिव्य रिट्रीट सेंटर का परिचय देते हुए

Launch of national campaign:भुवनेश्वर के निकट हरिदमदा गांव में ब्रह्माकुमारी दिव्य रिट्रीट सेंटर का परिचय देते हुए

Launch of national campaign:भारत के राष्ट्रपति ने राष्ट्रीय अभियान “स्थायित्व के लिए जीवनशैली” का शुभारंभ किया।

Launch of national campaign

आज, 8 जुलाई, 2024 को भारत की राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू ने ओडिशा के भुवनेश्वर के निकट हरिदमदा गांव में ब्रह्माकुमारी दिव्य रिट्रीट सेंटर का उद्घाटन किया।

Launch of national campaign
Launch of national campaign

उन्होंने ब्रह्माकुमारी के राष्ट्रव्यापी “स्थायित्व के लिए जीवनशैली” कार्यक्रम का भी परिचय दिया। राष्ट्रपति ने इस अवसर पर अपने भाषण के दौरान कहा कि प्रकृति में प्रचुरता है। जीवन के अस्तित्व के लिए जंगल, पहाड़, नदियाँ, झीलें, समुद्र, वर्षा और हवा होनी चाहिए।

Launch of national campaign
Launch of national campaign

हालाँकि, लोगों को यह ध्यान रखना चाहिए कि प्रकृति मानव की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए प्रचुरता प्रदान करती है, न कि उनके लालच को पूरा करने के लिए। मनुष्य अपने सुख के लिए प्रकृति का दुरुपयोग कर रहा है, इसलिए वह प्राकृतिक दुनिया के प्रकोप को अपने ऊपर ले रहा है।

जीवनशैली” कार्यक्रम का परिचय

उनके अनुसार पर्यावरण के साथ तालमेल बिठाकर रहना और उसके अनुकूल जीवन जीना जरूरी है। राष्ट्रपति के अनुसार, भारतीय संस्कृति में हमेशा से पर्यावरण के अनुकूल जीवन जीने को महत्व दिया गया है। हमारे दर्शन के अनुसार आकाश को पिता और धरती को माता कहा गया है।

Launch of national campaign
Launch of national campaign

President of IndiaPresident of India ने कुछ समय के लिए पुरी के समुद्र तट का दौरा किया

नदियों को भी माता की संज्ञा दी गई है। जीवन की तुलना जल से की गई है। हम जल को वरुण और वर्षा को इंद्र मानते हैं। हमारी कथाओं में पेड़-पहाड़ हिलते-डुलते हैं और जानवर भी आपस में संवाद करते हैं।

Visit:  samadhan vani

इससे पता चलता है कि प्रकृति में मन है और वह बिल्कुल भी निष्क्रिय नहीं है। प्राकृतिक दुनिया को संरक्षित करने के लिए भारतीय दार्शनिकों के ये सभी सुंदर विचार हैं।

Launch of national campaign
Launch of national campaign

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.