कोकम के सेवन से लिवर से जुड़ी प्रॉब्लम से दूर करने में मदद मिलती है

सेवन

कोकम के सेवन से लिवर से जुड़ी प्रॉब्लम से दूर करने में मदद मिलती है

इसके बोटैनिकल नाम गार्सिनिया इंडिका है

सेवन

कोकम एक औषधीय फल है। इसके बोटैनिकल नाम गार्सिनिया इंडिका है। इसके गार्सिनोल और हाइड्रोक्सीसाइट्रिक एसिड पाए जाते हैं,सेवन इसलिए यह वजन कम करने में मददगार है। कैलोरी में कम और फाइबर से भरपूर होने के कारण कोकम हार्ट के लिए फायदेमंद होता है। यह एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है। आयुर्वेदाचार्य अमित सेन बता रहे हैं कोकम के फायदे।कोकम में गार्सिनोल पाया जाता है, यह बायोएक्टिव कंपाउंड एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल और एंटीफंगल की तरह काम करता है।

राशिफल 2023:कुंडली, टैरो और अंक ज्योतिष से जानिए आपके लिए कैसा रहेगा नया साल

यह कंपाउंड लिवर को हेल्दी बनाता है

सेवन

यह कंपाउंड लिवर को हेल्दी बनाता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) की वेबसाइट पर छपी मेडिकल रिसर्च में भी इस बात का जिक्र है कि कोकम के सेवन से लिवर से जुड़ी प्रॉब्लम से दूर करने में मदद मिलती है। डायरिया की प्रॉब्लम है तो कोकम के सेवन से फायदा मिलेगा। कोकम फल में ऐसे गुण होते हैं जो डायरिया को कंट्रोल करते हैं। डायरिया से पीड़ित मरीज को कोकम का जूस पीने को दें। पाचन से जुड़ी समस्या है तो कोकम का सेवन करें। पेट फूलना, कब्ज और अपच में भी कोकम खाने से फायदा मिलता है।

कोकम इम्यूनिटी बूस्ट करने वाला फल है

सेवन

कोकम इम्यूनिटी बूस्ट करने वाला फल है। इसमें मौजूद गुण शरीर की इम्यूनिटी को बेहतर बनाने के लिए लाभकारी हो सकते हैं। ऐसे में कहा जा सकता है कि इम्यूनिटी कमजोर होने की वजह से बार बार बीमार पड़ने वाले लोगों के लिए कोकम फायदेमंद माना जा सकता है।घर पर इस शरबत को आप तैयार कर सकते हैं। आपको सूखे कोकम को पानी में एक-दो घंटे के लिए भिगाना है, और फिर अच्छे से मिलाकर इसका पानी छान लें।

कोकम में फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है

सेवन

छानकर जो कोकम निकला, उसमेंं चीनी, भुना जीरा पाउडर, इलायची पाउडर, काला नमक और साधारण नमक डालकर मिला लें। इसके बाद चीनी के पिघलने तक गैस पर हल्की आंच में 5 मिनट तक पका लें। इसके बाद एक कढ़ाई में कोकम को डालकर अच्छे से उबाल लें और फिर ठंडा होने के लिए एक बोतल में भरकर फ्रिज में रख दें। इसके बाद जब भी ये शरबत पीना हो, तो एक गिलास में 3-4 चम्मच कोकम का रस डालें और ठंडा पानी मिलाकर तैयार है आपका कोकम शरबत।

हाइड्रोक्‍साइट्रिक एसिड आपकी भूख को भी नियंत्रित करता है

सेवन

कोकम में फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है। साथ ही इसमें कैलरी भी बेहद कम होती है। वहीं, इसमें कोलेस्ट्रॉल और सैच्युरेटेड फैट बिल्कुल नहीं होता है। जबकि कोकम में मौजूद मैग्नीशियम, पोटेशियम और मैग्नीज व्यक्ति के दिल को हेल्दी रखने में मदद करता है।कोकम का रोजाना सेवन करने से ये हमारे लिवर को डिटॉक्स करने में मदद करता है। ये शरीर में ऑक्सीडेटिव डिजनरेशन को धीमा करता है और शरीर में ठंडा करता है। इसके सेवन से हमारा लिवर अच्छी तरह से काम कर पाता है और लिवर से होने वाली दिक्कतों में हमें राहत मिलने में मदद मिलती है।

कोकम हमारी त्वचा को एजिंग से बचाता है

सेवन

कोकम हमारी त्वचा को एजिंग से बचाता है, चेहरे पर होने वाले दाने, पिंपल्स आदि में राहत देता है। साथ ही स्किल फ्लोलेस और स्पॉटलेस रहती है। इसमें हमारी मदद कोकम में पाए जाने वाले एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेटिव गुण करते हैं। इसलिए कोकम के शरबत का सेवन करना हमारे शरीर के लिए लाभदायक माना जाता है। कोकम का सेवन करने से ये हमारे गट के बैक्टीरिया को सुरक्षा देता है। इसमें पाए जाने वाले एंटीबैक्टीरियल गुण अपच, गैस, दस्त और कब्ज जैसी समस्याओं में राहत देने का काम करता है।

कोकम के फायदे वजन को प्रबंधित करने में मदद कर‍ते हैं

सेवन

इसके अलावा कोकम में पाए जाने वाला हाइड्रॉक्सिल साइट्रिक एसिड हमारे तनाव को कम करने में काफी मदद करता है। कोकम के फायदे वजन को प्रबंधित करने में मदद कर‍ते हैं। आज आधी से अधिक आबादी मोटापे से ग्रसित है। लेकिन यदि आप मोटापे से छुटकारा चाहते हैं तो कोकम का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। अध्‍ययनों से पता चलता है कि इस फल में मौजूद हाइड्रोसाइट्रिक एसिड वजन प्रबंधन में मदद करता है। साथ ही यह एंटी-ओबेसिटी गुणों को दर्शाता है। हाइड्रोक्‍साइट्रिक एसिड आपकी भूख को भी नियंत्रित करता है और पूर्णता की भावना को उत्‍तेजित करता है।

इस तरह से कोकम फल का सेवन आपके भोजन की मात्रा को नियंत्रित करता है। यह वसा के ऑक्‍सीकरण को भी बढ़ाता है और शरीर में फैटी एसिड की मात्रा को कम करता है। यदि आप अपने वजन को कम करना चाहते हैं तो कोकम का उपभोग शुरू कर सकते हैं।

रुद्राक्ष की उत्पत्ति भोलेनाथ के आंसूओं से हुई है