दिल्ली के कंझावला इलाके में कार सवार 5 युवकों ने 20 साल की एक युवती को टक्कर मार दी

दिल्ली के 5 युवकों ने 20 साल की एक युवती को टक्कर मार दी

दिल्ली

नए साल के जश्न के बीच राजधानी दिल्ली से दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। दिल्ली के कंझावला इलाके में कार सवार 5 युवकों ने 20 साल की एक युवती को टक्कर मार दी। हादसे के बाद युवक कार लेकर भागने लगे। लड़की कार के नीचे फंसी रही और करीब 4 किलोमीटर तक सड़क पर घिसटती रही। पुलिस के मुताबिक, उसकी मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस ने पांचों युवकों को गिरफ्तार कर लिया है। जो सीसीटीवी फुटेज सामने आए हैं। उनमें कार के नीचे युवती को घिसटते देखा जा सकता है।

हरियाणा के खेल मंत्री ने विभाग छोड़ा:महिला कोच से छेड़छाड़ की FIR के बाद लिया फैसला, संदीप सिंह बोले- साजिश रची गई

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चार किमी तक युवती कार में फंसी रही

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चार किमी तक युवती कार में फंसी रही।घसीटे जाने की वजह से युवती की पीठ और सिर की हड्डियां बुरी तरह से घिस गईं। मांस निकल गया। दोनों पैर की हड्डियां भी टूट गईं, जिससे उसकी बेहद दर्दनाक मौत हुई। कपड़े फट गए। जब उसकी लाश मिली तो उसके शरीर पर एक भी कपड़ा नहीं बचा। दिल्ली में 1 जनवरी की रात को एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। एक 20 साल की लड़की को 5 हैवानों ने 4 किलोमीटर तक घसीटा।

इतना ही नहीं मृतिका के शरीर पर एक भी कपड़े नहीं बचे

vani 11

जो जानकारी मिल रही है उसके अनुसार इस घटना में लड़की की ना सिर्फ मौत हुई है बल्कि उसके शरीर के कई हिस्से अलग हो गए।इतना ही नहीं मृतिका के शरीर पर एक भी कपड़े नहीं बचे। लोग नए साल का स्वागत करने के लिए लोग घर से बाहर निकलते हैं। ऐसे में दिल्ली जैसे जगह पर पुलिस को सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम रखना चाहिए।लेकिन जिस तरह से ये घटना घटी और इसपर जिस तरह से दिल्ली पुलिस ने अपनी प्रतिक्रिया दी है वो एक बार फिर से उनकी मंशा पर प्रश्न चिन्ह खड़ा कर रहा है।

बाहरी दिल्ली के डीसीपी हरेंद्र सिंह से इस मामले में रिपब्लिक ने बात की

इस हादसे ने एक बार फिर से दिल्ली पुलिस को सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया है। एक गाड़ी चार किलो मीटर तक एक स्कूटी और लड़की को घसीटती है लेकिन ना तो दिल्ली पुलिस इस घटना को रोक पाती है और ना ही वो दरिंदे रुकते हैं। बाहरी दिल्ली के डीसीपी हरेंद्र सिंह से इस मामले में रिपब्लिक ने बात की। बाहरी दिल्ली के DCP ने इस घटना को एक एक्सीडेंट बताया है।उन्होंने कहा, “हमारी जांच में पता चला है कि आरोपी गाड़ी चला रहा था और लड़की गाड़ी के नीचे आ गई थी।

सुल्तानपुरी के इलाके में ये एक्सीडेंट हुआ

vani 12

आरोपियों ने कई किलोमीटर तक उसे घसीटा जिसकी वजह से ना सिर्फ शरीर छत-विछत हुई बल्कि मौत भी हो गई। सुल्तानपुरी के इलाके में ये एक्सीडेंट हुआ और वहां से वो शरीर को घसीटते हुए लेकर गए। उनके खिलाफ लीगल एक्शन लिया जाएगा।”सवाल ये उठता है कि चार किलोमीटर के दायरे में क्या कोई चेक पोस्ट नहीं थी? क्या पुलिस की नजर में ये घटना नहीं आई?डीसीपी सिंह ने कहा कि एक्सीडेंट वाले स्थान से हमारी पुलिस की पेट्रोलिंग टीम को एक स्कूटी मिला। वहां कोई चश्मदीद नहीं था।

उसकी सारी हड्डियाँ चकनाचूर हो गई थीं

पुलिस को एक कॉल करके बताया गया कि कार के साथ कोई आदमी फंसा हुआ है और गाड़ी उसे घसीटते हुए लेकर जा रहा है। हमने गाड़ी नंबर ट्रेस करके कार सवारों को पकड़ा और उन्होंने बताया कि उनके साथ चार किलोमीटर पहले एक्सीडेंट हुआ था।लड़की की हालत ऐसी हो गई थी कि उसकी सारी हड्डियाँ चकनाचूर हो गई थीं और उसके शरीर पर एक कपड़ा भी नहीं बचा था। लड़की के दोनों पैर, सिर और शरीर के अन्य हिस्से बुरी तरह कुचले हुए थे। चौंकाने वाली यह घटना ऐसे समय में सामने आई है।

इसे देश का सबसे बड़ा सड़क हादसा बताया जा रहा है

vani 13

जब दिल्ली पुलिस कमिश्नर संजय अरोड़ा समेत पूरी दिल्ली पुलिस नए साल का जश्न मनाने के लिए सड़कों पर थी। इसे देश का सबसे बड़ा सड़क हादसा बताया जा रहा है। सुल्तानपुरी थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। लड़की के शव के पोस्टमार्टम की प्रक्रिया चल रही है। आरोपी युवकों का कहना है कि वे शराब के नशे में थे और कार में तेज आवाज में गाना बजा रहे थे। इस वजह से उन्हें नहीं पता चला कि लड़की कार में फंसी हुई है। युवती एक कार्यक्रम में ड्यूटी करके स्कूटी से अपने घर अमन विहार लौट रही थी।

युवती के साथ कुछ अनहोनी की आशंका भी जताई जा रही है

दिल्ली पुलिस इसे महज सड़क हादसा बता रही है, पुलिस की थ्योरी पर कई सवाल उठ रहे हैं। युवती के साथ कुछ अनहोनी की आशंका भी जताई जा रही है। एक चश्मदीद दीपक ने दावा किया कि पीसीआर वैन को हादसे के बारे में बताने पर भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। दीपक नाम के इस व्यक्ति ने इंडिया टुडे को बताया कि वह सुबह सवा तीन बजे दूध की डिलीवरी का इंतजार कर रहा था, तभी उसने कार को महिला को घसीटते हुए देखा। दीपक बेगमपुर तक बलेनो कार के पीछे गया।

सुबह 5 बजे तक पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की

vani 14

पुलिस ने सुबह 5 बजे तक कार्रवाई नहीं की इस बीच दीपक ने पुलिस को फोन किया, लेकिन सुबह 5 बजे तक पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। पीसीआर वैन की पुलिस होश में नहीं थी, इसलिए उन्होंने एक्शन लेने में इंटरेस्ट नहीं लिया। पीड़ित लड़की का नाम रेखा है। वह अमन विहार में रहती है। परिवार में मां और दो भाई और चार बहने हैं।वह अकेली कमाने वाली थी और एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी में काम करती थी। न्यू ईयर पर एक इवेंट में काम के लिए घर से निकली थी।ऐसा बताया कि शनिवार-रविवार की रात वह ऐसे ही एक फंक्शन से लौट रही थी।

लड़की के शरीर पर कपड़े नहीं थे। शरीर का ज्यादातर शरीर रोड पर रगड़कर गायब हो चुका था। उसकी लाश बीच सड़क पर पड़ी हुई थी।

दोषी अस्पतालों एवं विद्यालयों के प्राधिकरणों के द्वारा पट्टा अभिलेख आवंटन निरस्त किया जाएं