मुलायम सिंह यादव का सोमवार सुबह 8:16 बजे निधन,पार्थिव शरीर सैफई पहुंचा, कल दोपहर तीन बजे अंतिम संस्कार

मुलायम सिंह यादव का सोमवार सुबह 8:16 बजे निधन

मुलायम सिंह यादव का सोमवार सुबह 8:16 बजे निधन,पार्थिव शरीर सैफई पहुंचा, कल दोपहर तीन बजे अंतिम संस्कार

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव का सोमवार सुबह 8:16 बजे निधन हो गया। 82 साल के मुलायम का गुरुग्राम के मेदांता हॉस्पिटल में 50 दिन से इलाज चल रहा था।निधन के बाद बेटे अखिलेश यादव ने जानकारी दी कि मेरे आदरणीय पिता जी और सबके नेताजी नहीं रहे।मुलायम के निधन पर उत्तर प्रदेश में 3 दिन और बिहार में एक दिन के राजकीय शोक का ऐलान किया गया है। अंतिम संस्कार के लिए मुलायम की पार्थिव देह सैफई स्थित पैतृक निवास लाई गई है।            भारत और चीन के बीच घट रही तनातनी 

मंगलवार दोपहर 3 बजे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ शाम को सैफई पहुंचे और मुलायम सिंह यादव को श्रद्धांजलि दी।रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और गृह मंत्री अमित शाह सोमवार को श्रद्धांजलि देने के लिए मेदांता भी पहुंचे थे।अंतिम संस्कार में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और सीएम योगी भी मौजूद रहेंगे।

मुलायमजी का जाना देश के लिए बहुत बड़ी क्षति : PM नरेंद्र मोदी

मुलायम सिंह यादव का सोमवार सुबह 8:16 बजे निधन,पार्थिव शरीर सैफई पहुंचा, कल दोपहर तीन बजे अंतिम संस्कार

PM नरेंद्र मोदी सोमवार को गुजरात के भरुच में जनसभा कर रहे थे। यहां भी उन्होंने सबसे पहले मुलायम सिंह यादव को याद किया। कहा, “मुलायमजी का जाना देश के लिए बहुत बड़ी क्षति है।2014 में जब भाजपा ने मुझे प्रधानमंत्री पद के लिए चुना तो मैंने विपक्ष में अपने परिचित लोगों को फोन करके आशीर्वाद लिया था।हम दोनों मुख्यमंत्री के तौर पर मिला करते थे, वे भी और मैं भी दोनों के प्रति एक अपनत्व का भाव अनुभव करते थे।उस दिन मुलायमजी का वह आशीर्वाद, सलाह के दो शब्द आज भी मेरी अमानत हैं।”

5 सितंबर 2022 को भी मुलायम सिंह को मेदांता में भर्ती कराया गया था। इलाज के बाद उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया था। अक्टूबर 2020 में मुलायम कोरोना पॉजिटिव भी हो गए थे, हालांकि उन्होंने वैक्सीन लगवाई थी। अगस्त 2020 में पेट दर्द के चलते मेदांता में भर्ती कराए गए थे। जांच में यूरिन इन्फेक्शन का पता चला था।तीन बार UP के मुख्यमंत्री और सात बार सांसद रहेजवानी के दिनों में पहलवानी का शौक रखने वाले मुलायम सिंह ने 55 साल तक राजनीति की।

5 दिसंबर 1989 को मुलायम पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने

मुलायम सिंह 1967 में 28 साल की उम्र में जसवंतनगर से पहली बार विधायक बने। जबकि उनके परिवार का कोई राजनीतिक बैकग्राउंड नहीं था। 5 दिसंबर 1989 को मुलायम पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। बाद में वे दो बार और प्रदेश के CM रहे। उन्होंने केंद्र में देवगौड़ा और गुजराल सरकार में रक्षा मंत्री की जिम्मेदारी भी संभाली।4 अक्टूबर 1992 को लखनऊ में समाजवादी पार्टी बनाने की घोषणा की थी। मुलायम सपा के अध्यक्ष, जनेश्वर मिश्र उपाध्यक्ष, कपिल देव सिंह और मोहम्मद आजम खान पार्टी के महामंत्री बने।

मोहन सिंह को प्रवक्ता नियुक्त किया गया। इस ऐलान के एक महीने बाद यानी 4 और 5 नवंबर को बेगम हजरत महल पार्क में उन्होंने पार्टी का पहला राष्ट्रीय अधिवेशन आयोजित किया।राजनीति में एंट्री करने से पहले मुलायम कुश्ती लड़ते थे। एग्जाम छोड़कर कुश्ती लड़ने चले जाते थे। 1960 में जब मुलायम कॉलेज में पढ़ते थे, तब कवि सम्मेलन के मंच पर दरोगा को एक युवा ने चित कर दिया।मुलायम कुछ दिन तक मैनपुरी के करहल में जैन इंटर कॉलेज में प्राध्यापक भी रहे। पांच भाई-बहनों में दूसरे नंबर पर मुलायम सिंह की दो शादियां हुईं।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मुलायम सिंह यादव को श्रद्धांजलि अर्पित करने सैफई जाएंगे

पहली पत्नी मालती देवी का निधन मई 2003 में हो गया था। अखि‍लेश यादव मुलायम की पहली पत्नी के ही बेटे हैंवह कई दलों में शामिल रहे और बड़े नेताओं की शागिर्दी भी की। इसके बाद उन्होंने अपना दल बनाया और एक-दो बार नहीं बल्कि यूपी में तीन बार सत्ता संभाली।बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समाजवादी पार्टी (सपा) के संस्थापक मुलायम सिंह यादव को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए बुधवार को उनके पैतृक गांव सैफई जाएंगे. जनता दल (यूनाइटेड) के प्रवक्ता के सी त्यागी ने कहा कि पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल मंगलवार को सैफई में मौजूद रहेगा,

जब पूर्व रक्षा मंत्री की अंत्येष्टि की जाएगी.बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि ”मुलायम जी बहुत ही जनप्रिय नेता थे. सारी जिंदगी उन्होंने जनता की आवाज़ उठाई और उन्होंने सामाजिक दृष्टि से सामाजिक न्याय के लिए कार्य किया. मैं अपनी ओर से मुलायम सिंह जी को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें.”

मुलायम सिंह यादव हमेशा गरीबों के साथ थे- मल्लिकार्जुन खड़गे
कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि मुलायम सिंह यादव एक वरिष्ठ नेता थे जिनको हमने खोया है. वे हमेशा गरीबों के साथ थे, पिछड़े हुए लोगों के लिए वे एक मसीहा थे. वे अच्छे व्यक्तित्व वाले इंसान थे.
कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि मुलायम सिंह यादव एक ऐसे नेता थे जिन्होंने गरीबों से जुड़कर अपनी ज़िंदगी गुजारी. अभी तक के जो भी नेता रहें उनमें से मुलायम जी एक बड़ा नाम थे. दिलचस्प बात यह है कि इतनी उम्र के बावजूद वे सदन में आते और हर वक्तव्य को सुनते समझते थे.

उत्तराखंड विधानसभा में विपक्ष के नेता यशपाल आर्य 
उत्तराखंड विधानसभा में विपक्ष के नेता यशपाल आर्य ने कहा कि मुलायम सिंह यादव जी का उत्तर प्रदेश के विकास में बड़ा योगदान रहा. वह सही मायनों में लोकतंत्र की आवाज थे. भगवान उनकी आत्मा को शांति दे. मेरी और कांग्रेस की तरफ से उनको श्रद्धांजलि. उनका जाना राजनीति में खाई है जिसका भरना मुश्किल है.
महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि मुलायम सिंह यादव देश के वरिष्ठ राजनीतिज्ञ थे. उत्तर प्रदेश के विकास और देश की राजनीति में उनकी भूमिक रही है. पुराने समाजवादियों में उनका बड़ा नाम था. हम सबको उनके जाने का बहुत दुख है. भगवान उनके परिवार को दुख सहन करने की शक्ति दे.
नरेश उत्तम पटेल ने दी ये प्रतिक्रिया
उत्तर प्रदेश के समाजवादी पार्टी अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने कहा कि हम लोग मुलायम सिंह यादव के निधन की खबर पाकर काफी दुखी हैं और समाजवादी पार्टी उनके निधन पर शोक व्यक्त करती है. समाजवादी पार्टी उनकी आत्मा की शांति की कामना करती है. यह देश के लिए अपूरणीय क्षति है.
एंबुलेंस से सैफई जाएंगे आजम खान
अब्दुल्ला आज़म ने बताया कि आजम खान बीमार हैं लेकिन फिर भी वह एम्बुलेंस से डॉक्टरों के साथ सैफ़ई पहुंचेंगे. अब्दुल्ला आज़म मुरादाबाद कोर्ट में मुकदमे की तारीख़ पर पहुंचे थे लेकिन जज के न बैठने के कारण वापस हो गए. दोनों नेता सैफई जाने की तैयारी कर रहे हैं.          Delhi Forest Guard PET/PST Admit Card 2022

इटावा के डीएम ने दी ये जानकारी
इटावा के ज़िलाधिकारी अवनीश राय ने कहा कि हमें सूचना मिली है कि नेता जी का अंतिम संस्कार यहां किया जाएगा. प्राथमिक व्यवस्था के लिए पुलिस और प्रशासन की टीम यहां मौजूद हैं. प्राथमिक जानकारी के मुताबिक हमें अंतिम संस्कार का समय कल दोपहर का दिया गया है.

राहुल गांधी ने मुलायम सिंह यादव के निधन पर दुख जताया
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने भी मुलायम सिंह यादव के निधन पर दुख जताया है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ”श्री मुलायम सिंह यादव जी का निधन एक बेहद दुःखद समाचार है. वो ज़मीनी राजनीति से जुड़े एक सच्चे योद्धा थे. मैं श्री अखिलेश यादव समेत सभी शोकाकुल परिजनों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं.”

मनमोहन सिंह ने अखिलेश यादव को पत्र लिखा
पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव को पत्र लिखा. उन्होंने लिखा, “वह उच्च सम्मान के नेता थे, जिनका हर कोई सम्मान करता था. भगवान आपको इस दुख को सहन करने की शक्ति दे.”

यह एक युग का अंत है- केशव प्रसाद मौर्य
उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, ”मुलायम जी का निधन बेहद दुखद है. उनका इलाज चल रहा था सब इस आस में थे कि वे वापस इलाज करवाकर लौटेंगे लेकिन यह खबर आई. राजनीतिक दृष्टि से यह एक युग का अंत है.”

मुलायम सिंह यादव का निधन अत्यंत दुखदायी- योगी
सीएम योगी ने ट्विटर पर लिखा, ”उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री मुलायम सिंह यादव जी का निधन अत्यंत दुखदायी है. उनके निधन से समाजवाद के एक प्रमुख स्तंभ एवं एक संघर्षशील युग का अंत हुआ है. ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति की कामना व शोकाकुल परिवार एवं समर्थकों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं.”

यूपी में तीन दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा
उत्तर प्रदेश सरकार की योगी आदित्यनाथ ने मुलायम सिंह यादव के निधन पर तीन दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा की है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कहना है कि उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा.

मायावती ने दुख जाताया
मुलायम सिंह यादव के निधन पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी दुख जाताया है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ”समाजवादी पार्टी के व्योवृद्ध नेता व यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री श्री मुलायम सिंह यादव जी के आज निधन हो जाने की ख़बर अति-दुःखद. उनके परिवार व सभी शुभचिन्तकों के प्रति मेरी गहरी संवेदना. कुदरत उन सबको इस दुःख को सहन करने की शक्ति दे.”