शून्य से नायक तक: Chirag Paswan का उदय

Chirag Paswan

शून्य से नायक तक: Chirag Paswan का उदय

हाजीपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के प्रतिनिधि चिराग पासवान को मोदी की 3.0 कैबिनेट में लिपिक का पद मिला है। यह Chirag Paswan के लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ है, जब वे एक संभावित राजनीतिक शून्य से एक संघ सेवक के रूप में एक संभावित स्टार बन गए हैं।

Chirag Paswan का उदय

हाजीपुर सीट पासवान के लिए बहुत महत्व रखती है, क्योंकि इस सीट से उनके पिता दिवंगत प्रधानमंत्री यशवंत पासवान सांसद थे, जिन्होंने वर्ष 2000 में लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) की स्थापना की थी।

चिराग पासवान की यह उपलब्धि विशेष रूप से उनकी पार्टी के भीतर पिछले विभाजन को देखते हुए उल्लेखनीय है, जिसका नेतृत्व उनके चाचा पशुपति पारस ने किया था, जिसके कारण पार्टी की वास्तविक छवि को नुकसान पहुंचा था।

Chirag Paswan
Chirag Paswan

इसने 41 वर्षीय पासवान को एक अन्य राजनीतिक दल, लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास पासवान) का साथ देने के लिए बाध्य किया, जिसने 2024 के लोकसभा चुनावों में अपनी सभी पांच सीटों – हाजीपुर, जमुई, खगड़िया, समस्तीपुर और वैशाली – पर जीत हासिल की।

पासवान के लिए ऐतिहासिक महत्व

चिराग पासवान का राजनीतिक सफ़र 2012 में शुरू हुआ जब वे लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) में शामिल हुए। दो साल बाद, 2014 में, उन्होंने बिहार के जमुई संसदीय क्षेत्र से लोकसभा चुनाव लड़ा और जीत हासिल की।

यह सीट पासवान के लिए ऐतिहासिक महत्व रखती है, क्योंकि उनके पिता ने 1977 में अपनी सबसे यादगार जीत के बाद से कई बार इस सीट पर चुनाव लड़ा था।

Chirag Paswan
Chirag Paswan

सांसद के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने कई संसदीय समितियों में काम किया और LJP के केंद्रीय संसदीय बोर्ड के कार्यकारी अध्यक्ष पद पर मज़बूती से बने रहे। 2019 में, उन्हें जमुई निर्वाचन क्षेत्र से फिर से चुना गया और उसके कुछ समय बाद, उन्हें LJP का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया।

1983 में जन्मे चिराग ने दिल्ली में पब्लिक एजुकेशन ऑफ़ पब्लिक एजुकेशन से पढ़ाई की। उन्होंने 2005 में झांसी में फाउंडेशन ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी से कंप्यूटर इंजीनियरिंग में बी.टेक की पढ़ाई की, लेकिन तीसरे सेमेस्टर में ही बाहर हो गए।

Chirag Paswan
Chirag Paswan

चिराग पासवान ने बॉलीवुड में कुछ समय बिताया

राजनीति में शामिल होने से पहले, चिराग पासवान ने बॉलीवुड में कुछ समय बिताया। 2011 में, उन्होंने कंगना रनौत के साथ फिल्म “मिले ना मिले मुरमुर” में अपनी शुरुआत की, जो 2024 में संसद के लिए चुनी गई एक और सदस्य हैं।

यह भी पढ़ें:Modi Cabinet 3.0 : चिराग पासवान, सुरेश गोपी ने 9 जून को शपथ ली

हालाँकि, फिल्म ने सिनेमा की दुनिया में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया, जिसके कारण चिराग ने 2012 में मनोरंजन की दुनिया को छोड़ दिया और राजनीति में अपना करियर बनाने लगे।

चिराग का राजनीति में प्रवेश एलजेपी के लिए महत्वपूर्ण था। उन्होंने 2014 में भाजपा के साथ गठबंधन बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, अपने पिता को उस संगठन को पुनर्जीवित करने के लिए राजी किया जो 2002 में गुजरात दंगों के बाद बंद हो गया था।

Chirag Paswan के खिलाफ मोर्चा

चिराग के प्रयासों ने एलजेपी को तुरंत पुनर्जीवित कर दिया, जिसने 2009 में शून्य से 2014 में छह सीटें जीतीं। 2019 के लोकसभा चुनाव में, एलजेपी ने जनता दल-यूनाइटेड (जेडी-यू) और भाजपा के साथ साझेदारी में छह सीटें जीतीं।

Chirag Paswan
Chirag Paswan

चुनाव आयोग (IC) को सौंपे गए शपथपत्र के अनुसार, सांसद चिराग पासवान की कुल संपत्ति 2.68 करोड़ रुपये है, जिसमें 1.66 करोड़ रुपये की चल संपत्ति और 1.02 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति शामिल है।

Visit:  samadhan vani

हालांकि, 2020 में अपने पिता के निधन के बाद चिराग को विवादों का सामना करना पड़ा, जब उन्होंने अपने चाचा पशुपति कुमार पारस के साथ विवाद किया। 2021 में लोजपा के पांच सांसदों ने पासवान के खिलाफ मोर्चा खोल दिया और पारस से हाथ मिला लिया। इसके बाद सब कुछ साफ हो गया।

Post Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.