ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के विरुद्ध किसानो के धरने को हुए 100 दिन

किसानो के धरने

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के विरुद्ध किसानो के धरने को हुए 100 दिन

किसानो के धरने: ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण पर किसान सभा द्वारा चलाए जा रहे महापड़ाव को आज पूरे 100 दिन हो गए हैं परंतु किसानों को अभी भी अपनी समस्याओं के समाधान का इंतजार है।

धरने के आज 100वें दिन अध्यक्षता जगदीश नंबरदार ने व संचालन सतीश यादव ने किया। किसान सभा के प्रवक्ता डॉ रुपेश वर्मा ने बताया कि धरने के 100 दिन गुजर जाने के बाद भी किसानो की समस्याएं जस की तस हैं किसानों के चार प्रमुख मुद्दे जिनमें सभी किसानों को 10% विकसित प्लॉट, प्रभावित परिवारों के युवाओं को रोजगार, भूमिहीनों के लिए 40 वर्ग मीटर का प्लॉट व नए भूमि अधिग्रहण को लागू करना है।

किसानो के धरने : प्रमुख मुद्दों

किसानो के धरने
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के विरुद्ध किसानो के धरने को हुए 100 दिन

इन प्रमुख मुद्दों का हमको अभी तक कोई संतोषजनक जवाब ना ही तो जनप्रतिनिधियों द्वारा और ना ही प्राधिकरण के अधिकारियों द्वारा दिया जा रहा है इतने लंबे समय से किसान धरना दे रहे हैं लेकिन सरकार किसानी की मांगों को गंभीरता से नहीं ले रही है, अगर सरकार ने किसानों के मुद्दों को जल्द हल नहीं किया तो आने वाले चुनाव में भाजपा को इसकी राजनीतिक कीमत चुकानी पड़ेगी।

👉ये भी पढ़ें 👉:आज किसान सभा के दिन रात के धरने का ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण पर 99 वां दिन रहा

युवाओं ने रोजगार की मांग को लेकर जोरदार तरीका से प्रदर्शन किया

किसानो के धरने : किसान सभा के संयोजक वीर सिंह नगर ने बताया कि 2 दिन पहले हमारे युवाओं ने रोजगार की मांग को लेकर जोरदार तरीका से प्रदर्शन किया था इस जिले के अंदर बेरोजगारी का आंकड़ा इतना बड़ा है की किसानों को अपनी जीविका चलाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है सभी प्रभावित किसान परिवार से एक व्यक्ति को प्राथमिकता के तौर पर रोजगार उपलब्ध कराया जाए।

प्राधिकरण भ्रष्टाचार का अड्डा

किसानो के धरने : किसान सभा के सचिव जगबीर नंबरदार ने बताया कि प्राधिकरण भ्रष्टाचार का अड्डा बना हुआ है और जब किसान भ्रष्टाचार के विरुद्ध मांग उठाते हैं तो दिखाए मात्रा के लिए कार्यवाही या की जाती हैं परंतु प्राधिकरण के अंदर अभी भी वही ढाक के तीन पात है किसान अपने कार्यों के लिए धक्के खा रहे हैं उनकी सुनने वाला कोई नहीं है।

किसान अलग-अलग दफ्तर में धक्के खाते हैं

किसानो के धरने : किसान अलग-अलग दफ्तर में धक्के खाते हैं उनके लिए अलग से विंडो सिस्टम होना चाहिए और किस की सभी समस्याओं का निदान एक ही खिड़की से होना चाहिए। किसान संदीप भाटी का कहना है कि हमारे भूमिहीनों के सामने जीवन यापन करने का संकट है उनके परिवार बढ़ रहे हैं लेकिन उनके पास बहुत छोटे-छोटे घर हैं क्योंकि वह लोग भूमिहीन थे तो उन पर बेसन के लिए जमीन नहीं है वह किसने की जमीनों पर ही गुजर बसर करते थे उनके लिए प्राधिकरण को 40 वर्ग मीटर का प्लॉट प्रत्येक बालिक परिवार को दिया जाए।

👉ये भी पढ़ें 👉:सूचना/ आमंत्रण पत्र: किसान मजदूर राष्ट्रीय सम्मेलन

संचालक की जिम्मेदारी संभाल रहे सतीश यादव

किसानो के धरने : संचालक की जिम्मेदारी संभाल रहे सतीश यादव ने बताया कि आज भारत के महान क्रांतिकारी राजगुरु की जयंती पर हमारे धरने को 100 दिन पूरे हुए हैं यह है गजब का सहयोग है और हम सभी किसान इस महान क्रांतिकारी की जयंती पर प्राण करते हैं कि जब तक हमारे सारे मुद्दे हल नहीं हो जाएंगे हम यहां से अपने घर नहीं जाएंगे चाहे हमें अपने प्राण ही न्योछावर क्यों न करने पड़े।

किसानों सभा के कार्यकर्ता सैकड़ो की संख्या में

किसानो के धरने
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के विरुद्ध किसानो के धरने को हुए 100 दिन

किसानो के धरने : किसान निशांत रावल ने बताया कि दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में मजदूरों और किसानों का अखिल भारतीय संयुक्त सम्मेलन हो रहा है। उक्त सम्मेलन में हमारे धरने से किसानों सभा के कार्यकर्ता सैकड़ो की संख्या में मजदूरों किसानों के राष्ट्रीय सम्मेलन में भाग लेने के लिए गए हैं जिसमें बड़ी मात्रा में महिलाएं भी शामिल है।

👉👉: Visit: samadhan vani

बड़ी मात्रा में महिलाएं भी शामिल

किसानो के धरने : आज के धरने में मुख्य रूप से सूबेदार ब्रह्मपाल नरेंद्र भाटी इंद्रजीत कसाना निरंकार सिंह अजी पाल भाटी हरेंद्र खड़ी सुरेश यादव संजय नगर चतर सिंह लाजपत राय शर्मा अमित यादव यतेंद्र मैनेजर वीरान नेताजी रंगलाल भाटी राजवीरी देवी सुरेंद्र यादव हरकेश रेखा पूनम विमला शिमला अनीता सुनीता सहित हजारों की संख्या में किसान मौजूद रहे।

Post Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.