Homeदेश की खबरेंGovernment द्वारा पुश्तैनी किसानों के 237 प्रकरणों की लीजबैक की कार्रवाई को...

Government द्वारा पुश्तैनी किसानों के 237 प्रकरणों की लीजबैक की कार्रवाई को रद्द

प्रेस रिलीज -Government द्वारा पुश्तैनी किसानों के 237 प्रकरणों की लीजबैक की कार्रवाई को रद्द करने से किसानों में भारी आक्रोश- किसान सभा ने दी आंदोलन की चेतावनी

किसानो की आबादियों

किसानो की आबादियों के रद्द करने के बाद किसान सभा ने तुरंत अपनी नव निर्वाचित जिला कार्यकारिणी की बैठक बुलाई बैठक पतवाड़ी में गबरी मुखिया के आवास पर हुई बैठक मे किसानों के 237 प्रकरणों में लीज बैक की कार्रवाई को रद्द किए जाने को लेकर विचार विमर्श हुआ किसान सभा गौतम बुध नगर के अध्यक्ष डॉ रुपेश वर्मा ने कहा कि यह किसानों के साथ धोखाधड़ी है

👉ये भी पढ़े👉:DM OFFICE पर ,मीडिया और अभिव्यक्ति की आजादी पर हो रहे हमलों के खिलाफ सीटू व किसान सभा का प्रदर्शन

Government
किसान सभा के आंदोलन के कारण लीजबैक की नीति बनी थी

Government: किसान सभा के आंदोलन के कारण लीजबैक की नीति बनी थी जिसमें पुश्तैनी किसानो की आबादियों को छोड़े जाने के निर्णय हुए थे प्राधिकरण ने गलत तथ्यों के आधार पर अपनी सिफारिशे शासन को भेजी हैं सही मायने में पुश्तैनी किसानो की आबादियों की लीजबैक को रद्द करने का कोई आधार नहीं है।

किसान सभा के महासचिव जगबीर नंबरदार

किसान सभा के महासचिव जगबीर नंबरदार ने कहा की पूरा ग्रेटर नोएडा किसानो की जमीन पर बसा है 16000 हेक्टेयर से अधिक जमीन किसानों ने दी है पुश्तैनी किसानो की पुश्तैनी आबादियों को लीज बैक घोटाला बताकर किसानों का शोषण किया जा रहा है।

Government

किसान सभा के संयोजक वीर सिंह नागर ने कहा कि किसानों की आबादी जहां है जैसी है वैसी ही प्राधिकरण को भी नियमित करनी पड़ेगी किसी भी कीमत पर शोषण बर्दाश्त नहीं करेंगे प्राधिकरण को शासन से बात कर शासन द्वारा प्रेषित पत्र को रद्द करना ही पड़ेगा। अभी 16 सितंबर को किसान सभा के आंदोलन के परिणाम स्वरूप लिखित में हुए समझौते के अनुसार किसानों के सभी मसलों को अक्टूबर महीने की बोर्ड बैठक से पास करना आवश्यक है

👉ये भी पढ़े👉:MAFIA FREE UTTAR PRADESH?क्या प्रदेश की जनता को माफ़ियाओं से छुटकारा मिल पाएगा

किसानों के लीज बैक के प्रकरणों को रद्द करने की खबर

Government
किसानों के लीज बैक के प्रकरणों को रद्द करने की खबर आने से किसान आक्रोशित हैं

Government: ऐसे में किसानों के लीज बैक के प्रकरणों को रद्द करने की खबर आने से किसान आक्रोशित हैं। किसान सभा के सचिव संदीप भाटी ने कहा कि 21 सितंबर 2021 को ग्रेटर नोएडा में दैनिक जागरण के कार्यक्रम में माननीय मुख्यमंत्री जी के सामने किसान सभा के अध्यक्ष डॉ रुपेश वर्मा ने लीज बैक के प्रकरणों में एसआईटी जांच के कारण अटके पड़े मामलों को अनुमोदित करने की मांग रखी थी जिसके परिणाम में 1451 मामले शासन ने 23 सितंबर को अनुमोदित कर लीज बैक की अग्रिम कार्रवाई के लिए प्रेषित कर दिए थे,

कार्यकारिणी की बैठक

Government: परंतु 533 मामलों और 208 बादलपुर चौगानपुर के मामलों को अभी तक लटकाए रखा था किसान सभा ने अपने आंदोलन में प्रमुखता से इस मुद्दे को रखा था और इसमें जल्दी ही प्राधिकरण ने अनुमोदन की बात कही थी परंतु अभी पता चला है कि शासन ने प्रेषित अपने पत्र में 237 मामलों को खारिज करने की बात कही है इसको लेकर किसानों में आक्रोश है सोमवार में प्राधिकरण के अधिकारियों से बातचीत होगी ठोस नतीजा नहीं आने पर तुरंत आंदोलन किया जाएगा।

Government
आज कार्यकारिणी की बैठक में मुख्य रूप से गबरी मुखिया

👉👉Visit: samadhan vani

Government: आज कार्यकारिणी की बैठक में मुख्य रूप से गबरी मुखिया, अजब सिंह नेताजी,सुले यादव, सुशील सुनपुरा, निरंकार प्रधान,दुष्यंत रोजा,अजयपाल भाटी, अशोक आर्य,संदीप भाटी, मोहित नागर, सुशांत भाटी, निशांत रावल, सुरेश यादव, जोगिंदर भाटी, पप्पी भाटी,मोनू मुखिया,संतराम भाटी मोजूद रहे। भवदीय, डॉक्टर रुपेश वर्मा, अध्यक्ष, अखिल भारतीय किसान सभा, गौतम बुध नगर।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Recent Comments