Homeदेश की खबरेंKisan Sabha in Tugalpur village में पंचायत कर 30 जनवरी को आंदोलन...

Kisan Sabha in Tugalpur village में पंचायत कर 30 जनवरी को आंदोलन में पहुंचने का आह्वान किया

Kisan Sabha:संयुक्त किसान मोर्चा की 26 तारीख को किसान विरोधी नीतियों के विरोध में देशव्यापी आंदोलन की काल के क्रम में सिरसा, खानपुर एवं मलकपुर में जनसभा कर किसान विरोधी नीतियों का विरोध किया जाएगा

Kisan Sabha in Tugalpur village

तुगलपुर गांव में भगत सिंह की बैठक पर एडवोकेट गुरप्रीत सिंह, दीपक चेची ने सैकड़ो किसानों की जनसभा का आयोजन किया जनसभा की अध्यक्षता ब्रह्म चेची ने की संचालन शिशांत भाटी ने किया जनसभा को संयोजक वीर सिंह नागर, उपाध्यक्ष अजब सिंह नेताजी, महासचिव जगदीश नंबरदार, मोहित भाटी, संजय चेची, अशोक भाटी, डॉ ओमप्रकाश, नितिन चौहान, प्रशांत भाटी, देवेंद्र वर्मा ने जनसभा को संबोधित किया।

Kisan Sabha
Kisan Sabha

संयोजक वीर सिंह नागर ने संबोधित करते हुए कहा कि 30 जनवरी का आंदोलन मुख्य रूप से 10% आबादी प्लाट एवं नए कानून को लागू करने के संबंध में प्राधिकरण बोर्ड से पास प्रस्तावों को शासन से अनुमोदन करने के बाबत किया जा रहा है। आंदोलन के पहले चरण में प्राधिकरण ने किसान सभा से लिखित समझौता किया है परंतु 10% का मुद्दा अभी भी अधर में है किसान सभा इसको हल करके ही दम लेगी।

जिला अध्यक्ष डॉक्टर रुपेश वर्मा

जिला अध्यक्ष डॉक्टर रुपेश वर्मा ने कहा कि यह लड़ाई किसानों के हक की लड़ाई है लंबे समय से किसानों के 10% आबादी प्लाट की हकमारी की गई है जमीनों की खरीदें नए कानून का उल्लंघन करके अत्यंत कम दामों पर की गई हैं एवं नए कानून में दिए जाने वाले लाभों से वंचित किया गया है।

Kisan Sabha
Kisan Sabha

यह भी पढ़ें:Shram Bandhu Meeting में सीटू नेता गंगेश्वर दत्त शर्मा पर मानीताऊ कम्पनी पर हुए हमले में कार्रवाई नहीं होने पर ट्रेड यूनियनों ने जताई नाराजगी

महासचिव जगबीर नंबरदार ने कहा कि केंद्र और राज्य की सरकार किसान विरोधी सरकार है सरकार ने किसानों की आमदनी 2022 तक दोगुनी करने का वादा किया था किसानों की आमदनी दोगुनी होने के बजाय किसान आत्महत्या के लिए मजबूर हैं और सरकार के खास पूंजी पत्तियों की संपत्ति पिछले तीन वर्षों में चार गुना बढ़ गई है बड़े पूंजी पत्तियों का 15 लाख करोड़ रूपया बैंकों ने माफ किया है

30 जनवरी को तुगलपुर के लोग आंदोलन में हिस्सा लेंगे

जबकि कुल मिलाकर किसानों को दी जाने वाली सब्सिडी 2 लाख 71 हजार रुपए ही है जो किसान कर्ज में आ गए उन पर बैंकों का इतना दबाव है कि उन्हें आत्महत्या करनी पड़ रही है फसलों के उचित दाम की कोई नीति सरकार की ओर से लागू नहीं हुई है लागत से कम मूल्य पर किसान अपनी फसल बेचने को मजबूर है एडवोकेट गुरप्रीत ने कहा कि हमारी लड़ाई भूमि अधिग्रहण से पीड़ित किसानों के हक की लड़ाई है

Kisan Sabha
Kisan Sabha

Visit:  samadhan vani

जिसे किसान सभा जीत कर ही दम लेगी अंत में तुगलपुर गांव की ओर से भगत सिंह चेची ने आश्वासन दिया कि सैकड़ो की संख्या में 30 जनवरी को तुगलपुर के लोग आंदोलन में हिस्सा लेंगे। अजब सिंह नेताजी ने कहा किसान सभा पक्का मोर्चा लगाएगी और तब तक मोर्चा लगेगा जब तक की 10% आबादी प्लाट का अनुमोदन शासन से होकर नहीं आ जाता। भवदीय, डॉक्टर रुपेश वर्मा, अध्यक्ष, अखिल भारतीय किसान सभा, गौतम बुद्ध नगर

Kisan Sabha
Kisan Sabha
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Recent Comments