Homeदेश की खबरेंLakhpati Didi Sammelan: जैसलमेर में भारत के राष्ट्रपति ने लखपति दीदी सम्मेलन...

Lakhpati Didi Sammelan: जैसलमेर में भारत के राष्ट्रपति ने लखपति दीदी सम्मेलन की शोभा बढ़ाई

आज, 23 दिसंबर, 2023 को जैसलमेर, राजस्थान में Lakhpati Didi Sammelan में श्रीमती उपस्थित रहीं। द्रौपदी मुर्मू, भारत के राष्ट्रपति।

अपनी टिप्पणी में, राष्ट्रपति ने इस सम्मेलन में बोलने के लिए आमंत्रित किए जाने पर प्रसन्नता व्यक्त की और कहा कि स्वयं सहायता संगठन समाज में हाशिए पर और वंचित समूहों – विशेष रूप से महिलाओं – को आत्मनिर्भर बनने के लिए सशक्त बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उन्होंने कहा कि जबकि हमारा देश अपनी आजादी की 100वीं वर्षगांठ मना रहा है, हम भारत को एक विकसित देश बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए स्वतंत्र होना महत्वपूर्ण है। हालाँकि, यह तब तक संभव नहीं होगा जब तक कि देश की सभी महिलाएँ स्वतंत्र और शक्तिशाली न हों।

Lakhpati Didi Sammelan
Lakhpati Didi Sammelan: इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए स्वतंत्र होना महत्वपूर्ण है

Lakhpati Didi Sammelan

राष्ट्रपति के अनुसार, महिला सशक्तिकरण और समान रोजगार के अवसरों से सामाजिक और आर्थिक उन्नति को काफी मदद मिलती है। यदि किसी देश के आधे लोगों की उपेक्षा की जाती है, तो वह प्रगति नहीं कर सकता। महत्वपूर्ण वैश्विक शोध और अनुमानों से पता चला है कि यदि महिलाओं की रोजगार भागीदारी पुरुषों के बराबर हो जाए, तो भारत की जीडीपी नाटकीय रूप से बढ़ सकती है।

ये भी पढ़े : National Farmer Day 2023: थीम, इतिहास और महत्व

भारत सरकार

Lakhpati Didi Sammelan
Lakhpati Didi Sammelan: राष्ट्रपति ने घोषणा की कि भारत सरकार द्वारा यह गारंटी देने के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है

Lakhpati Didi Sammelan: राष्ट्रपति ने घोषणा की कि भारत सरकार द्वारा यह गारंटी देने के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है कि महिलाओं को अधिक आर्थिक स्वतंत्रता, व्यक्तिगत स्वतंत्रता और राजनीतिक दबदबा मिले। महिलाओं की रोजगार गुणवत्ता और कार्यबल में भागीदारी बढ़ाने के लिए कई पहल लागू की गई हैं। श्रम कानूनों में ऐसे कई तत्व शामिल हैं जो सहायक और सुरक्षात्मक हैं। महिलाओं के जीवन स्तर में सुधार लाने में कई सरकारी पहल सफल रही हैं।

राजनीतिक सहभागिता की गारंटी

इसके अतिरिक्त, प्रशासन ने राजनीतिक सहभागिता की गारंटी देने में महत्वपूर्ण प्रगति की है। हाल ही में पारित “नारी शक्ति वंदन अधिनियम” कानून विधानसभाओं और लोकसभा में महिलाओं के लिए एक तिहाई सीटें आरक्षित करता है। हालाँकि, महिला सशक्तिकरण की दिशा में प्रगति अभी भी ख़त्म नहीं हुई है। लिंग आधारित प्राथमिकता जैसे मुद्दे आज भी सामाजिक और आर्थिक क्षेत्रों में मौजूद हैं। महिलाओं को अपनी संपत्ति के अधिकार और स्वामित्व के लिए लड़ना पड़ता है, जिससे उनके लिए ऋण या ऋण प्राप्त करना कठिन हो जाता है।

सामाजिक और आर्थिक शक्ति

Lakhpati Didi Sammelan
Lakhpati Didi Sammelan: हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि देश के प्रत्येक व्यक्ति के पास सामाजिक और आर्थिक शक्ति हो

राष्ट्रपति के अनुसार, हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि देश के प्रत्येक व्यक्ति के पास सामाजिक और आर्थिक शक्ति हो। ऐसा करने के लिए, लिंग भेद को यथाशीघ्र समाप्त किया जाना चाहिए।

Visit:  samadhan vani

महिलाओं को आर्थिक विकास चलाना चाहिए और महिलाओं के नेतृत्व वाले विकास की अवधारणा को व्यवहार में लाना चाहिए; यह हर किसी की जिम्मेदारी है. उन्होंने आशा व्यक्त की कि लखपति दीदी सम्मेलन समावेशी आर्थिक विकास और महिला सशक्तिकरण को आगे बढ़ाएगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Most Popular

Recent Comments