अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ से उत्तर वाहिनी परिक्रमा में प्रकृति जतन ,संस्कृति के सम्मान और स्वच्छता जागृति अभियान से श्रद्धालु हुए प्रेरित

नर्मदा

अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ से उत्तर वाहिनी परिक्रमा में प्रकृति जतन ,संस्कृति के सम्मान और स्वच्छता जागृति अभियान से श्रद्धालु हुए प्रेरित

मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ से जुड़ें वालेंटियर्स देश में जहां भी हैं

नर्मदा

नई दिल्ली| अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा मां नर्मदा को आधार मानकर विभिन्न उद्देश्यों को लक्ष्य बनाकर काम कर रहा है अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ राष्ट्रहित-धर्म-पर्यावरण-सनातान-संसकृति, सभ्यता- प्राकृति आदि विषयों पर लक्षित कार्य करने वाले सनातनियों को एक माला में पिरोने का कार्य रहा है । मां नर्मदा भावधारा को अपने सनातन कर्तव्य और सेवा निष्ठा का आधार बनाकर सभी सेवा, सहयोग को एक सूत्रता से सनातन एकता अखंडता पर अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ से जुड़ें वालेंटियर्स देश में जहां भी हैं

रुद्राक्ष की उत्पत्ति भोलेनाथ के आंसूओं से हुई

स्वयं सेवक द्वारा परिक्रमा मार्ग कि सफाई जैसे विभिन्न कार्य किये हैं

वो स्वयं के एंव संगठन के संसाधनों से कार्य करते हैं ।वर्तमान में गुजरात के नर्मदा जिले के तिलकवाड़ा – रामपुरा की प्रसिद्ध उत्तर वाहिनी परिक्रमा में अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ के पदाधिकारियों ने स्वखर्च पंगदंडी मार्ग बनना, स्वच्छता के लिए बैनर तथा कचरे को इकठ्ठा करने का स्थान, कचरा निपटान के साधन, संस्कृति का महत्व, परिक्रमा का महत्व प्रकृति जतन , मां नर्मदा के तट कि स्वच्छता, तीर्थों के सम्मान के होर्डिंग्स लगाए गए हैं , सेवा केन्द्र में श्रमदान, योगदान तथा स्वयं सेवक द्वारा परिक्रमा मार्ग कि सफाई जैसे विभिन्न कार्य किये हैं ।

उत्तर वाहिनी परिक्रमावासियो को अंधेरे में भी मार्ग में परेशानी न हो

नर्मदा

उत्तर वाहिनी परिक्रमा के पथ को स्थानीय जनों, खेत मालिकों को कि अनुमति से रत्नाकर संगम महासचिव, राष्ट्रीय सेवा विंग सहसंयोजक पदाधिकारियों द्वारा अपने खर्चे से परिक्रमा पथ बनाया गया है। अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ के पदाधिकारियों एवं सहयोगियों ने पूरे परिक्रमा मार्ग में स्वच्छता जाग्रति के लिए जगह – जगह होर्डिंग्स लगाए हैं संघ द्वारा मार्ग में संकेतक भी लगाये गये हैं जिससे उत्तर वाहिनी परिक्रमावासियो को अंधेरे में भी मार्ग में परेशानी न हो,

अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ ने सेवा नंबर भी इश्यू किया है

नर्मदा

अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ ने सेवा विंग एवं प्रेरित लोगों द्वारा परिक्रमावासियो के लिए स्वल्पाहार, पीने का पानी आदि व्यवस्था भी की गई है मार्ग पर टेंट भी लगाये गये हैं जहां परिक्रमावासी विश्राम कर सकें अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ के स्वच्छता विंग ने स्वच्छता के लिए कचड़ा डंप करने के लिए सेंटर बनाए हैं अगले डंप सेंटर के लिए संकेतक एवं स्वच्छता जाग्रति के लिए होर्डिंग्स लगाए गए हैं अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ ने सेवा नंबर भी इश्यू किया है

वालेंटियर्स पंथ पर कचड़ा भी बीनकंर डंप सेंटर में डालते दिख जाते हैं

नर्मदा

जिससे उत्तर वाहिनी परिक्रमा में परिक्रमा से संबंधित विषयों के लिए वालेंटियर्स से संपर्क हो सके अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा संघ की राष्ट्रीय समन्वयक मनीषा पटेल ने बताया कि अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा निश्चल भाव से बिना अपेक्षा के कार्य करने वाले सेवाभावी लोगों का संगठन है जो मां नर्मदा को आधार मानकर विभिन्न उद्देश्यों में स्वयं के संसाधनों से कार्य कर रहे हैं उत्तर वाहिनी परिक्रमा में संघ के पदाधिकारी एवं वालेंटियर्स पंथ पर कचड़ा भी बीनकंर डंप सेंटर में डालते दिख जाते हैं ।

अखिल भारतीय मां नर्मदा परिक्रमा सेवा किसी भी कार्य को छोटा या बड़ा नही मानता है संघ वह सभी कार्य करता हैं जो राष्ट्र धर्म प्राकृति सनातन के हित में हो।

वंदना ठाकुर की रिपोर्ट

Post Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.