नोएडा के ट्विन टावर कल टूटेंगे 3700 किलो बारूद से 12 सेकेंड में गिरेगी पूरी बिल्डिंग

कुतुब मीनार से ऊंचे नोएडा के ट्विन टावर कल टूटेंगे

नोएडा के ट्विन टावर कल टूटेंगे 3700 किलो बारूद से 12 सेकेंड में गिरेगी पूरी बिल्डिंग

नोएडा में बने 32 मंजिला ट्विन टावर रविवार दोपहर ढाई बजे गिरा दिए जाएंगे। 13 साल में बनी दोनों इमारतें टूटने में सिर्फ 12 सेकेंड लगेंगे। कुतुब मीनार से ऊंचे ट्विन टावर से ठीक 9 मीटर दूर सुपरटेक एमरेल्ड सोसायटी है। यहां 650 फ्लैट्स में करीब 2500 लोग रहते हैं।

ट्विन टावर कैसे टूटेंगे, लेकिन आसपास रहने वालों को डर है कि उनके घर कैसे बचेंगे। घर बच भी गए तो टावर के मलबे से निकली धूल से कैसे बचेंगे। ये जगह सेक्टर-93 में है और नोएडा के महंगे एरिया में शामिल है। यहां 3BHK फ्लैट की कीमत करीब एक करोड़ रुपए है।                          पानी पीने के साथ खाने की आदत कैसे करें कंट्रोल, गटागट पीने से भी नुकसान

ट्विन टावर गिराने का जिम्मा एडिफाइस नाम की कंपनी को मिला है। ये काम प्रोजेक्ट मैनेजर मयूर मेहता की निगरानी में हो रहा है। वे बताते हैं कि हमने बिल्डिंग में 3700 किलो बारूद भरा है। पिलर्स में लंबे-लंबे छेद करके बारूद भरना होता है। फ्लोर टु फ्लोर कनेक्शन भी किया जा चुका है।

सोसायटी की रेसिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के प्रेसिडेंट उदयभान सिंह तेवतिया बताते हैं कि ट्विन टावर 2009 से बनना शुरू हुए थे। ये गैरकानूनी तरीके से बनाए गए। हम लोगों से कभी इस पर बात ही नहीं की गई। टावर हमारीसोसायटी से सिर्फ 9 मीटर दूर बने हैं।

 बुजुर्गों की सेहत पर इसका सबसे ज्यादा बुरा असर

नोएडा के ट्विन टावर कल टूटेंगे 3700 किलो बारूद से 12 सेकेंड में गिरेगी पूरी बिल्डिंग

नियम के हिसाब से ये दूरी 16 मीटर होनी ही चाहिए।नोएडा अथॉरिटी से हमने ट्विन टावर से जुड़े डॉक्यूमेंट मांगे, तो कहा गया कि ये सीक्रेट डॉक्यूमेंट हैं, नहीं दिए जा सकते। इसी आधार पर हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि टावर बनाने वाले सुपरटेक ग्रुप और इसके लिए जिम्मेदार नोएडा अथॉरिटी के अफसरों को सजा दी जाए।

गैरकानूनी तरीके से बनी इमारतें गिराई जा रही हैं। बिल्डिंग गिरेंगी तो कितना धुआं और धूल निकलेगी, इसका अंदाजा अब तक नहीं है। बच्चों और बुजुर्गों की सेहत पर इसका सबसे ज्यादा बुरा असर होगा। हमने मीटिंग में नोएडा अथॉरिटी से भी पूछा था कि इस समस्या के लिए आपका क्या प्लान है? उनके पास कोई ठोस जवाब नहीं था।

भूकंप के बराबर भी झटका महसूस नहीं होगा। लोगों को हिदायत के तौर पर कहा गया है कि वे टीवी से प्लग निकाल दें और कांच के सामान अंदर रख लें। हवा के दबाव से कांच की चीजें टूट सकती हैं। ब्लास्ट से धूल होगी, लेकिन कितनी, इसका अनुमान नहीं लगाया जा सकता।न टावर गिराने के लिए 181 दिन से तैयारी चल रही थी।

21 फरवरी से 350 वर्कर्स और 10 इंजीनियर इस काम में जुटे थे। रविवार सुबह 7 बजे तक आसपास के 500 मीटर में मौजूद सभी 1396 फ्लैट्स खाली करा लिए जाएंगे।एक सुराख में 1.375 किलो से ज्यादा विस्फोटक नहीं डाला जाएगा. सुप्रीम कोर्ट ने नोएडा की एमराल्ड परियोजना से जुड़े सुपरटेक के 40 मंजिला ट्विन टावर को ढहाने के लिए शुक्रवार को 28 अगस्त की तारीख तय की है.

अदालत ने तकनीकी या मौसम संबंधी कारणों से देरी होने की स्थिति में ट्विन टावर को ढहाने की समय सीमा में चार सितंबर तक ढील भी दी. कोर्ट ने इससे पहले नियमों के उल्लंघन को लेकर दोनों इमारतों को गिराने के लिए 21 अगस्त की समय सीमा निर्धारित की थी.

28 अगस्त को शुरू होगी गिरानी की प्रक्रिया

नोएडा के ट्विन टावर कल टूटेंगे 3700 किलो बारूद से 12 सेकेंड में गिरेगी पूरी बिल्डिंग

न्यायमूर्ति डी. वाई. चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति ए. एस. बोपन्ना की पीठ ने दोनों टावर को गिराने की कवायद में जुटी एजेंसियों को इस आधार पर 29 अगस्त से चार सितंबर के बीच की एक सप्ताह की अतिरिक्त ‘मोहलत’ दी कि तकनीकी या मौसम संबंधी कारणों से इमारतों को ढहाने की प्रक्रिया में कुछ देरी हो सकती है.            Delhi Police Driver Recruitment 2022 | दिल्ली पुलिस ड्राइवर 1400 पदों पर भर्ती  

नोएडा सेक्टर 93ए में बने सुपरटेक ट्विन टावर गिराने की तारीख को हफ्ते भर बढ़ा दिया गया है. पहले ट्विन टावर 21 अगस्त को गिराया जाना था लेकिन अब 28 अगस्त से गिराने की प्रक्रिया शुरू होगी. नोएडा प्राधिकरण का कहना है कि टावर गिराने वाली एजेंसी को पुलिस और सीबीआरआई से एनओसी मिल चुकी है.

अब कल से दोनों टावर में विस्फोटक लगाना शुरू हो जाएगा. आज की रात से ही विस्फोटक मंगवाने के लिए एस्कॉर्ट को पलवल भेजा जाएगा. सुबह 7 बजे से विस्फोटक लगाने का काम शुरू होगा और शाम 6 बजे तक चलेगा