anubhav 84

तीन पत्ती के नाम से चार धाम भी कहा जाता है

गुजरात

गुजरात के सूरत शहर में मां अंबाजी का मंदिर है जोकि लगभग 400 वर्ष पुराना है इस मंदिर में मराठा छत्रपति शिवाजी महाराज भी दर्शन करने के लिए आते थे यह मंदिर कब और कैसे बना इसके विषय में जो मंदिर के ट्रस्टी है गुजरात: नीलम अंबाजी उन्होंने बताया कि यह प्रेम जी भट्ट को मां अंबा ने सपने में उनको कहा

रुद्राक्ष की उत्पत्ति भोलेनाथ के आंसूओं से हुई

गुजरात के सूरत में यह जगह बहुत ही मशहूर है

anubhav 84

कि मुझे यहां से ले चलो और प्रेम जी भट्ट मां को गब्बर पर्वत से लेकर आए मां को सबसे पहले अहमदाबाद में रखा गया लेकिन किसी कारण बस वहां से फिर माताजी को सूरत में लाकर यहां मंदिर का निर्माण कर मां को आसन दिया गया। इस मंदिर की बहुत बड़ी विशेषता है जो भी भक्त यहां पर आते हैं और जो भी मनोकामना मां से करते हैं

उनकी हर मनोकामना मां अवश्य पूर्ण करती है

anubhav 82

यहां मंदिर का निर्माण कर मां को आसन दिया गया

anubhav 81

उनकी हर मनोकामना मां अवश्य पूर्ण करती है यह अंबाजी का बहुत ही बड़ा चमत्कार है और पूरे संसार में अंबाजी का मंदिर इस तरीके का कहीं भी नहीं मिलेगा और एक खास एक मां के यहां वरदान मिलता है जिनके बच्चे पैदा नहीं होते हैं उनको मां साल में एक बार यहां श्रीखंड खिलाया जाता है उस प्रसाद से जिनके बच्चे नहीं होते हैं उनको माता बच्चों के रूप में झोली भर्ती है और उनके घर में खुशियों की गूंज चाहती है

बहुत ही मनमोहक मां का स्वरूप आज विराजमान था

anubhav 83

यहां 90% लोगों को मां का प्रसाद दिया जाता है जो भी श्रद्धा और विश्वास से दर्शन करने आते हैं उनकी माता हर मनोकामना पूर्ण करती है जब भी गुजरात के सूरत शहर में आए तो माता अंबा के दर्शन करने जरूर आएं भक्तों पर अनंत कृपा करती है ऐसी मां जगदंबा वाणी आज मां कात्यानी के रूप में विराजमान थी बहुत ही मनमोहक मां का स्वरूप आज विराजमान था।

सूरत से वंदना ठाकुर की रिपोर्ट ।
दिल्ली से सुनील परिहार के साथ कैमरामैन विजय राजपूत